सराज की देवता कमेटियां व महिला मण्डल करोना के खिलाफ लड़ाई में खुल कर उतरे मैदान में: एस.डी.एम
April 27th, 2020 | Post by :- | 199 Views

थुनाग (मंडी) 27 अप्रैल : उपमण्डलाधिकारी नागरिक थुनाग, सुरेन्द्र मोहन ने अवगत करवाया है कि करोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सराज की देवता कमेटियां तथा महिला मण्डल मुख्यमन्त्री राहत कोष में भरपूर आर्थिक योगदान देकर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी उद्देश्य से आज देव शैटी नाग 4- बड़ शैटाधार कमेटी की ओर से कारदार हिम्मत राम, महता परम देव, भंडारी उदे राम व ठाकुर सिंह तथा सदस्य फते सिंह व महेश्वर सिंह, ने मू0 2,00,000 (दो लाख) रुपये, विजय महिला मण्डल काण्ढी की ओर से प्रधान सौभग्या देवी, सचिव भामा देवी तथा सदस्य लता देवी ने मू0 11,000 (ग्यारह हजार) रुपये, नवज्योति महिला मण्डल मथ्यार की ओर से प्रधान अनारकली, सचिव ठाकरी देवी तथा उप प्रधान गीता देवी ने मू0 51,00 (पांच हजार एक सौ) रुपये तथा महिला मण्डल मझवाल की ओर से प्रधान ईशा देवी , उप प्रधान डोलमा देवी तथा कोषाध्यक्ष टोनी देवी ने मू0 51,00 (पांच हजार एक सौ) रुपये के चेक मुख्यमन्त्री राहत कोष हेतु उपमण्डलाधिकारी के माध्यम से भेंट किए हैं तथा देव नारायण महिला मण्डल केयोली-2 की ओर से श्री पितांबर ठाकुर ने 200 मास्क आवश्यक सेवाओं में लगे व्यक्तियों को सुरक्षा प्रदान करने हेतु भेंट किए हैं। इसके अलावा मगरु महादेव कमेटी छतरी की ओर से कारदार सुरेन्द्र राणा, गुर गंगा राम तथा भंडारी गोविन्द राम ने मू0 1,00,000 (एक लाख) रुपये का चेक मुख्यमन्त्री राहत कोष हेतु नायब तहसीलदार छतरी के माध्यम से सौंपा हैं। उपमण्डलाधिकारी, सुरेन्द्र मोहन ने सभी देवता कमेटियों व महिला मण्डलों का इस पुनीत कार्य के लिए दिल से आभार व्यक्त किया तथा क्षेत्र की दूसरी गैर सरकारी संस्थाओं को भी आपदा की इस घड़ी में सहयोग के लिए आगे आने का आवाहन किया।

उपमण्डलाधिकारी ने सभी महिला मण्डलों व देवता कमेटियों के सदस्यों को अपने अपने गांवों में लाॅकडाउन का सही ढंग से पालन करवाने, बच्चों को समूह में न खेलने देने तथा उचित सामाजिक दूरी बनाए रखने हेतु सहयोग देने का अनुरोध किया तथा यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा कि बिना माॅस्क कोई भी व्यक्ति घर से बाहर न निकले।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।