एसड़ीएम मनाली ने मोटर स्पोर्ट्स रैली को दिखाई हरी झंडी #news4
August 27th, 2022 | Post by :- | 90 Views

मनाली : हिमालयन एक्सट्रिम मोटर स्पोर्टस रैली का आज विधिवत आगाज हो गया। एसडीएम मनाली डा. सुरेंद्र ठाकुर ने अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतरोहण संस्थान से रैली को हरी झंडी दी। प्रदेश सहित देश भर से आए 70 से अधिक प्रतिभागी रोहतांग दर्रे सहित लाहुल की सर्पीली सड़कों में दमखम दिखाएंगे। रैली की प्रतियोगिता 28, 29 व 30 को आयोजित होगी। तीन दिन इन सड़कों में जिप्सी, एसयूवी और बाइक चालक रोमांच के साथ तेज गति से दौड़ते नजर आएंगे। हरी झंडी देने के बाद एसडीएम डा. सुरेंद्र ठाकुर ने प्रतिभागियों को प्रतियोगिता के समय सुरक्षा का ध्यान रखने को प्रेरित किया।

उन्होंने बताया कि इस तरह के खेल समय-समय पर होते रहने चाहिए। इससे जहां पर्यटन को बढ़ावा मिलता है, वहीं स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलता है। प्रशासन का भी प्रयास रहेगा कि हर वर्ष इस तरह के आयोजन हों। उन्होंने आयोजन के लिए मोटर स्पो‌र्ट्स खिलाड़ी सुरेश राणा को बधाई दी।दूसरी बार आयोजित हो रही रैली लाहुल के बातल व जांस्कर घाटी तक होगी। सुरक्षा व्यवस्था का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।  28 अगस्त को कोठी से रोहतांग व कोकसर तक जबकि कोकसर से रोहतांग होते हुए मनाली आएगी। 29 को ग्राम्फु व ग्राम्फु से बातल व बातल से ग्राम्फु व ग्राम्फु से जिस्पा तक रैली आयोजित होगी। 30 को दारचा व दारचा से शिंकुला होते हुए रैली जांस्कर तक जाएगी। आयोजक सुरेश राणा ने बताया कि 30 अगस्त को रैली मनाली बापस लौटेगी। मनाली में समापन समारोह आयोजित होगा।

हिमालयन कार रैली के चलते आज पर्यटकों के लिए बंद रहेगा रोहतांग

मनाली: हिमालयन कार रैली के आयोजन के चलते मनाली से कोकसर मार्ग वाया रोहतांग दर्रा वाहनों के लिए बंद रहेगा। इस मार्ग पर शाम  चार बजे के बाद ही वाहन जा सकेंगे। हालांकि अटल टनल बनने के बाद रोहतांग दर्रे में वाहनों की आवाजाही न के बराबर ही होती है लेकिन पेट्रोल डीजल के टैंकर यहीं से होकर लेह जाते हैं। लाहुल स्पीति प्रशासन ने अधिसूचना जारी कर मनाली से कोकसर रोहतांग दर्रे के रास्ते में शाम चार बजे तक यातायात नहीं चलने की बात कही है। हालांकि कोकसर से काजा और चंद्रताल मार्ग यातायात के लिए खुला रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।