कोरोना पॉजिटिव की मौत के बाद के मैक्लोडगंज में कर्फ्यू, संपर्क में आए लोगों की खोज शुरू
March 23rd, 2020 | Post by :- | 206 Views
हिमाचल के टांडा मेडिकल कॉलेज में 69 वर्षीय तिब्बती की मौत के बाद कांगड़ा में हड़कंप मच गया है। कोरोना वायरस से बुजुर्ग तिब्बतियन की मौत के बाद जिला प्रशासन ने मैक्लोडगंज में कर्फ्यू लगा दिया है। बालाजी अस्पताल 15 दिन के लिए बंद कर दिया गया है। तिब्बती 15 मार्च को अमेरिका से भारत आया था। 15 से 21 मार्च तक दिल्ली में था। 21 मार्च को टैक्सी से मैकलोडगंज पहुंचा था। जिला प्रशासन को सूचित करने के बजाय वह मैकलोडगंज स्थित अपने घर पहुंचा। माना जा रहा है कि अमेरिका से दिल्ली आने, दिल्ली से धर्मशाला आने वाले टैक्सी ड्राइवर और मैकलोडगंज में परिजनों सहित वह कई लोगों के संपर्क में आया है। जिला प्रशासन पॉजिटिव निकले मरीज के संपर्क में आए सभी लोगों को चिह्नित करने में लग गया है। सीएमओ जीडी गुप्ता ने बताया कि विभाग अलर्ट है। तिब्बतियन के संपर्क में आए परिजनों और अन्य लोगों को आईसोलेशन में भेजा है। उनके सैंपल लिए जा रहे हैं।

तिब्बतियन बुजुर्ग 23 मार्च सुबह बालाजी अस्पताल कांगड़ा में पहुंचा था। अस्पताल स्टाफ ने उसका इलाज किया। उसके संपर्क में स्टाफ के करीब 6 लोग आए थे। स्टाफ के 6 लोग अपने ही अस्पताल के कर्मचारियों के संपर्क में भी आए थे। एहतियात के तौर पर अस्पताल ने 15 दिन अस्पताल को बंद करने का निर्णय लिया है। करीब 100 स्टाफ को आईसोलेशन में इलाज के लिए भेजा है।


बालाजी अस्पताल के एमडी डॉ. राजेश ने कहा कि एहतियातन अस्पताल को 15 दिन बंद करने का निर्णय लिया है। पूरे स्टाफ को इलाज के लिए आईसोलशन में भेजा है। उधर, टांडा अस्पताल में तिब्बतियन मरीज का इलाज करने वाले स्टाफ को लेकर भी प्रशासन एहतियात बरत रहा है। निर्वासित तिब्बत सरकार के प्रेस अधिकारी तेलजोर ने कहा कि देर शाम अधिकारियों ने बैठक की है। निर्वासित सरकार कोरोना महामारी से लड़ने के लिए पूरी तरह अलर्ट है।

मैकलोडगंज में कोई भी घर से नहीं निकलेगा

एहतियातन जिला प्रशासन ने मैकलोडगंज में किसी भी व्यक्ति के घर से बाहर नहीं निकलने के निर्देश देर शाम जारी कर दिए। एएसपी दिनेश शर्मा ने बताया कि एहतियात तौर पर मैकलोडगंज के लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलने के निर्देश दिए हैं क्योंकि बुजुर्ग तिब्बतियन सीधा मैकलोडगंज आया था।

व्यवस्था पर उठ रहे सवाल 
तिब्बतियन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर व्यवस्था पर भी सवाल उठ रहे हैं। जब तिब्बतियन अमेरिका से भारत पहुंचा, तब उसके सैंपल क्यों नहीं लिए गए। मैकलोडगंज वह 21 मार्च को पहुंच गया था। प्रशासन को इसकी जानकारी क्यों नहीं मिली?

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।