वेतन मिलने तक हड़ताल पर रहेंगे सुरक्षा कर्मी #news4
October 20th, 2021 | Post by :- | 150 Views

ओपीडी सहित अन्य स्थलों पर लग रही मरीजों की भीड़ संवाद सहयोगी, चंबा : पंडित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालेज चंबा में कंपनी के तहत आउटसोर्स आधार पर सेवाएं दे रहे सुरक्षा कर्मियों के हड़ताल पर जाने से मेडिकल कालेज अस्पताल में व्यवस्था चरमरा गई है। उधर, हड़ताल पर गए कर्मियों का कहना है कि जब तक उन्हें वेतन नहीं मिल जाता तब तक वह काम पर नहीं लौटेंगे। उधर, मेडिकल कालेज में हर रोज जांच के लिए पहुंच रहे सैकड़ों की संख्या में मरीज व उनके साथ आए स्वजन ओपीडी सहित विभिन्न स्थानों पर भारी भीड़ जुटा रहे हैं। हालांकि आउटसोर्स कर्मियों के हड़ताल पर जाने के बाद कालेज में व्यवस्था को सुचारू रूप से बनाए रखने को लेकर कालेज प्रबंधन ने होमगार्ड के अलावा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को भी आउटसोर्स कर्मियों के स्थान पर तैनात किया है, ताकि जांच के लिए पहुंच रहे मरीज सहित मेडिकल कालेज पहुंचने वाले लोग अधिक भीड़ न जुटाएं, जिससे कोरोना का खतरा पैदा होने की संभावना न बन सके। सुरक्षा व्यवस्था के साथ अन्य तरह की गतिविधियों पर भी यही कर्मचारी नजर रख रहे हैं।

मेडिकल कालेज में आउटसोर्स आधार पर सेवाएं दे रहे सुरक्षा कर्मियों का कहना है कि उन्हें पिछले दो माह का वेतन नहीं मिला है। समय पर वेतन देने के अलावा अन्य विभिन्न तरह की मांगों को लेकर सुरक्षा कर्मी प्रशासन, कालेज व कंपनी प्रबंधन से मांग कर रहे हैं, लेकिन तीसरा माह खत्म होने को है ओर अभी तक इन कर्मियों का वेतन नहीं मिला है। ऐसे में मजबूर होकर इन कर्मियों ने आंदोलन की राह अपनानी पड़ी है। मेडिकल कालेज कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष राजेंद्र सहित अन्य का कहना है कि अब जब तक उन्हें वेतन नहीं दिया जाता तब तक वह काम पर नहीं लौटेंगे। मेडिकल कालेज में व्यवस्था सुचारू रूप से बनाए रखने के लिए कालेज में सेवाएं दे रहे चतुर्थ श्रेणी व होमगार्ड के जवानों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है। जांच के लिए कालेज पहुंच रहे लोगों से भी अपील है कि वह भी धैर्य रखते हुए अधिक भीड़ न जुटाएं, ताकि बीमार लोगों को समय पर सही इलाज मिल सके।

देवेंद्र कुमार, चिकित्सा अधीक्षक मेडिकल कालेज चंबा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।