शिमला: सीएम जयराम बोले- जेबीटी के रिक्त पदों को जल्द बैचवाइज भरेगी सरकार #news4
March 15th, 2022 | Post by :- | 122 Views
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश के प्रशिक्षित जेबीटी युवाओं को रोजगार के पर्याप्त अवसर प्रदान करने के लिए शीघ्र ही शैक्षणिक संस्थानों में जेबीटी के रिक्त पदों को भरने के लिए बैचवाइज भर्ती शुरू की जाएगी। मंगलवार दोपहर को मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने विधानसभा परिसर में हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ के प्रतिनिधिमंडल को संबोधित करते हुए यह बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा विभाग संभवतया सबसे बड़ा विभाग है और यहां सबसे अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। हर वर्ग के अध्यापकों को सुविधा प्रदान करने के लिए वर्ष 2022-23 के बजट में कई घोषणाएं की गई हैं। बजट में बीएड और टेट योग्यता प्राप्त शास्त्री और भाषा अध्यापकों के पदनाम को बदलकर टीजीटी संस्कृत और टीजीटी हिंदी करने की घोषणा की है।

इसी प्रकार प्रवक्ता स्कूल कैडर और प्रवक्ता स्कूल न्यू का पदनाम प्रवक्ता स्कूल किया गया है। जयराम ठाकुर ने कहा कि आगामी वित्तीय वर्ष के बजट में यह भी घोषणा की गई है कि टीजीटी से पदोन्नत प्रवक्ता को मुख्याध्यापक के रूप में पदोन्नति के लिए एक बार विकल्प दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा क्षेत्र के लिए वर्ष 2022-23 के दौरान 8412 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षकों की सभी उचित मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा। हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ के प्रांत महामंत्री डॉ. मामराज पुंडीर ने शिक्षकों के विभिन्न मुद्दों पर हमेशा ध्यान देने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री को महासंघ का मांगपत्र भी प्रस्तुत किया। इस अवसर पर शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर मौजूद रहे।

सरकारी स्कूलों में 3301 जेबीटी के पद रिक्त
वहीं, प्रदेश के सरकारी स्कूलों में जेबीटी के 3301 पद रिक्त हैं। बीते तीन वर्षों के दौरान कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर के माध्यम से शिक्षकों की सीधी भर्ती नहीं हुई है। 762 शिक्षकों को बैचवाइज आधार पर नियुक्ति दी गई है। कांग्रेस विधायक आशा कुमारी के सवाल पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर की ओर से लिखित में यह जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि जेबीटी के कुल 19620 पद स्वीकृत हैं। इसमें से 16319 पद भरे हुए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।