शिमला: सीएम जयराम बोले- खालिस्तानी टी शर्ट पहने समर्थक के साथ विपक्ष के नेता का फोटो क्या इंगित कर रहा #news4
May 9th, 2022 | Post by :- | 100 Views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि उन्हें मालूम नहीं, एक फोटो किसी ने उन्हें भेजा है। इसमें विपक्ष के नेता बीच में खडे़ हैं। साथ खालिस्तान की टी शर्ट पहनकर कोई आदमी है। यह विचित्र परिस्थिति है। वह इस बात से सहमत हैं कि राजनीतिक लोगों के साथ लोग फोटो खींचते हैं, लेकिन यह क्या इंगित करता है। मुख्यमंत्री ने आम आदमी पार्टी सहित कांग्रेस को भी खालिस्तान के मुद्दे पर लपेटा। सचिवालय में सोमवार को सीएम ने कहा कि इन घटनाओं को जबसे गति मिली है और जबसे बातें ध्यान में आ रही हैं।

तबसे चीजें उस दिशा में जा रही हैं, जैसा लोग मान रहे हैं और सुन रहे हैं। एक राजनीतिक दल के साथ इस प्रकार के बहुत से लोग जुडे़ हैं कि नहीं, वह बहुत ज्यादा नहीं कहना चाहते हैं। उस पार्टी का प्रवक्ता बेदी नाम से सोशल मीडिया के माध्यम से खालिस्तान के पक्ष में कह रहा है। कुमार विश्वास पहले कह चुके हैं। जिस प्रकार एक दिशा में चीजें जुड़ती जा रही हैं, जांच आगे बढ़ेगी तो सारी चीजें स्पष्ट होंगी। एसआईटी गठित करने के बाद जांच चल रही है। इसमें जो भी शामिल हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

पीएम के कार्यक्रम की संभावना, अभी पक्की सूचना नहीं आई  
मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम का कार्यक्रम होने की संभावना है। इस विषय में जब पीएमओ से स्थिति स्पष्ट होगी तो ही कुछ कहा जा सकेगा। केंद्र सरकार के आठ साल का कार्यकाल 20 मई को पूरा हो रहा है। हिमाचल ने निवेदन किया है कि वह इस अवसर को हिमाचल के साथ साझा करें तो यह गौरव का विषय होगा।

भाजपा को प्रदेश की सुरक्षा की चिंता नहीं: आप
वहीं, धर्मशाला विधानसभा परिसर में खालिस्तान के झंडे लगाए जाने के मामले में आम आदमी पार्टी ने भाजपा को धेरा है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता गौरव शर्मा ने कहा कि यह मुद्दा देश की सुरक्षा से जुड़ा है। ऐसे में इस मामले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। सरकार को चाहिए कि वह झंडे लगाने वाले आरोपियों को पकड़ कर सलाखों के पीछे डाले। आम आदमी पार्टी ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया है कि प्रदेश के मंत्री जश्न मनाने और नाच गानों में व्यस्त है। सरकार को प्रदेश कीसुरक्षा से कोई लेना देना नहीं है।

विधानसभा परिसर में खालिस्तान के झंडे लगाए जाना सीधे तौर पर पुलिस की लापरवाही है। इससे यह तो प्रतीत हो रहा है कि आम जनमानस सुरक्षित नहीं है। भाजपा नेताओं का यह बयान ही हैरानी करने वाला है कि यह झंडे रात को लगाए हैं, दिन में लगाएं तब जवाब देते। बड़ी बात यह है कि इस महत्वपूर्ण संस्थान धर्मशाला विधानसभा परिसर में सीसीटीवी कैमरे तक नहीं लगाए गए हैं। गौरव शर्मा ने कहा कि पन्नू बार-बार धमकियां देता रहता है, लेकिन अभी तक वह सुरक्षा एजेंसियों की पकड़ से बाहर है। देश का माहौल खराब करने के लिए पुन्नू के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

तपोवन में विस अध्यक्ष ने लिया सुरक्षा प्रबंधों का जायजा

वहीं, विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार ने सोमवार को तपोवन विधानसभा परिसर का दौरा किया। उन्होंने अधिकारियों को सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए। विस अध्यक्ष ने पुलिस अधीक्षक तथा उपायुक्त कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल के साथ विस परिसर के बाहर खालिस्तान के झंडे लगाने की घटना पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने घटना में संलिप्त लोगों की पहचान कर आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए।

परमार ने कहा कि हिमाचल को देवभूमि तथा शांतिप्रिय राज्य के रूप में जाना जाता है। राज्य में जनता के बीच आपसी सौहार्द तथा भाईचारा कायम है। इस भाईचारे और शांति को नुकसान पहुंचाने की कोशिशें कभी कामयाब नहीं हो सकती हैं। उन्होंने विधानसभा परिसर में सुरक्षा इंतजामों का भी निरीक्षण किया। उपायुक्त डॉ. निपुण जिंदल तथा पुलिस अधीक्षक डॉ. खुशहाल शर्मा ने उन्हें विधानसभा परिसर के सुरक्षा प्लान के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।