रामबाजार के फुटपाथ पर सजी दुकानें, बाजार हुआ संकरा #news4
April 21st, 2022 | Post by :- | 88 Views

शिमला : राजधानी शिमला के रामबाजार के फुटपाथ पर दुकानें सजाकर तहबाजारियों ने कब्जा किया हुआ है। इससे यहां पर लोगों के चलने के लिए रास्ता संकरा पड़ने लगा है। बस स्टैंड के पास से रामबाजार वाले रास्ते में आधे से ज्यादा कब्जा अब तहबाजारियों ने कर लिया है। उस रास्ते में वैसे ही चलने के लिए जगह कम है। ऐसे में तहबाजारी अपनी दुकान आधे रास्ते तक सजाए बैठे हैं।

सुबह के समय लोगों की संख्या अधिक होने से लोगों को चलने के लिए भी परेशान होना पड़ता है। कई बार तो बाजार में लोगों की कतारें लग जाती हैं, लेकिन रास्ता कम होने के कारण लोगों को इंतजार करना पड़ता है। सुबह के समय स्कूल व कालेज के बच्चे और नौकरीपेशा लोग भी इसी रास्ते का इस्तेमाल करते हैं। इससे उन्हें भी तहबाजारियों की वजह से परेशान होना पड़ता है। इससे उन्हें अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचने के लिए परेशान होना पड़ता है। हैरानी की बात है कि इन्हें हटाने और सामान पीछे हटाने के लिए प्रशासन की ओर से निर्देश दिए जाते हैं, इसके बावजूद ये जस से तस नहीं होते हैं। शहर के अन्य बाजार में भी यही हालात

राजधानी के दूसरे बाजारों में भी तहबाजारी अपनी दुकानें मिली जगह से ज्यादा के दायरे में फैलाए बैठे हैं। इस वजह से बच्चों, युवाओं व बुजुर्गो को चलने में परेशान होना पड़ता है। राजधानी को आने वाला हर व्यक्ति बस स्टैंड पर उतर कर यहां से बाजारों को आता है। प्रशासन को इन्हें कहीं और बसाना चाहिए : व्यापार मंडल अध्यक्ष

व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजीव ठाकुर का कहना है कि प्रशासन को इन्हें कहीं और बसाने के लिए काम करना चाहिए। शहर के हर बाजार में जितनी दुकानें आवंटित की थीं, उससे ज्यादा आकार की दुकानें बना ली हैं। इससे बाजार में लोगों को चलने के लिए जगह नहीं बची है। प्रशासन को इन्हें दूसरे स्थानों पर बसाने के लिए काम करना चाहिए। नियमों का उल्लंघन करने वालों पर होगी कार्रवाई : आयुक्त

नगर निगम के आयुक्त आशीष कोहली का कहना है कि बाजार में ओवरहैंगिग से लेकर दुकानों का आकार बढ़ाने वालों के खिलाफ कार्रवाई नियमों के तहत की जाती है। यदि फिर से इन्होंने दुकानें आगे बढ़ा ली हैं तो प्रशासन की ओर से कार्रवाई की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।