बुजुर्गों को गिरने से बचाएगी स्मार्ट छड़ी, मुसीबत के वक्त करीबियों और केयरटेकर को संदेश भी भेजेगी
March 7th, 2020 | Post by :- | 146 Views

आईआईटी दिल्ली के छात्रों ने एक ऐसी स्मार्ट छड़ी( स्टिक) बनाई है, जो बुजुर्गों को गिरने से बचाएगी। इतना नहीं यह स्टिक मुसीबत के वक्त उनके करीबियों, बच्चे और केयरटेकर को संदेश भी भेजेगी। इसमें लगा आरएफआईडी टैग उन्हें उनके जरूरी सामान खोजने में भी मदद करेगी। स्मार्ट स्टिक सॉल्यूशन पेश करने वाले आईआईआईटी दिल्ली के इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्यूनिकेशन के फर्स्ट ईयर छात्र अर्जुन राज ने बताया कि रघुल पीके के साथ मिलकर ये प्रोटोटाइप तैयार किया है।

आईआईटी दिल्ली एनएसएस के को-ऑर्डिनेटर प्रो. सम्राट मुखोपाध्याय ने बताया कि युवाओं को बुजुर्गों की जरूरत का चैलेंज दिया था। इसमें हर वर्ग के युवाओं के साथ एक छठी क्लास के बच्चे का ग्रुप भी पहुंचा, जिसने ट्रेन में बुजुर्गों के चढ़ने की दिक्कत का सॉल्यूशन फोल्डेबल प्लेटफार्म और स्टेप के तौर पर दिया। एक एप आधारित सॉल्यूशन में पेश किया गया कि सोशल नेटवर्क पर बुजुर्गों को इस तरह से जोड़ा जाए कि युवा और एनजीओ उनसे जुड़कर जरूरत के हिसाब से मदद कर सकें। दरअसल, आईआईटी दिल्ली के एनएसएस विंग की तरफ से बुजुर्गों की हेल्प के लिए सोशल इनोवेशन चैलेंज-2 रखा गया था। इसमें  9 टीमें शामिल हुई थीं, जिसमें बीटेक, पीएचडी के साथ छठी क्लास का एक स्टूडेंट भी शामिल हुआ। आठ टीमें दिल्ली के कॉलेजों की थीं और एक टीम बेंगलुरु की थी।

भारत में बढ़ रहे हैं बुजुर्ग
भारत में बुजुर्गों की जनंसख्या चीन के बाद विश्व में दूसरे नंबर पर है। एक रिपोर्ट के हवाले से बताया गया है कि 2001 से लगातार फर्टिलिटी रेट 2026 तक घटने का ट्रेंड है, जिसकी वजह से 15 साल तक के उम्र की आबादी 35.4% तक घटेगी। वहीं, 15 साल से ऊपर और विशेष तौर पर 60 साल से ऊपर की आबादी बढ़ेगी। ऐसे में इस तरह की स्मार्ट स्टिक बुजुर्गों को काफी फायदेमंद हो सकती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।