पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर शिमला में मूर्ति सफाई अभियान
September 25th, 2019 | Post by :- | 169 Views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने शिमला अम्बेडकर चौक से रिज मैदान तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर महत्वपूर्ण व्यक्तियों की प्रतिमा की साफ-सफाई करने के पश्चात माल्यार्पण कर सेवा कार्यक्रम की शुरुआत की।
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा प्रखर राष्ट्रवादी, उत्कृष्ट संगठनकर्ता एकात्म मानववाद और अंत्योदय के प्रणेता एवं हमारे पथ प्रदर्शक पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती पर शत्-शत् नमन। उन्हीने कहा पं. दीनदयाल उपाध्याय जी एक ऐसे युगद्रष्टा थे जिनके द्वारा बोये गए विचारों व सिद्धांतों के बीज ने देश को एक वैकल्पिक विचारधारा देने का काम किया। उनकी विचारधारा सत्ता प्राप्ति के लिए नहीं बल्कि राष्ट्र के पुनर्निर्माण के लिए थी और भारत को उसके गौरव पर पुनस्र्थापित करने के लिए थी।
उन्होंने कहा दीनदयाल जी कहते थे कि जब तक हम समाज के गरीब-से-गरीब व्यक्ति तक विकास नहीं पहुंचाते, तब तक देश की स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं। यह उनके तपस्यापूर्ण जीवन और विचार-शक्ति का ही असर था कि न जाने कितने राष्ट्रभक्तों ने जीवन के सभी सुखों को त्याग देश सेवा के लिए अपना जीवन समर्पित किया।
उन्होंने कहा आज एक भाजपा कार्यकर्ता के नाते हमको गर्व है कि गत पांच वर्षों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रही सरकार ने गरीब-कल्याण के अपने अडिग लक्ष्य से पंडित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन और अंत्योदय की विचारधारा को साकार कर के दिखाया है। कार्यक्रम में प्रदेश के शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, सांसद सुरेश कश्यप, महापैर कुसुम सदरेट, उपमहापौर राकेश शर्मा, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार त्रिलोक जामवाल, सचिव पायल वैद्या, महामंत्री चन्दरमोहन ठाकुर, पूर्व सांसद किरपाल परमार, और बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंतर्गत छोटा शिमला में स्थित राजीव गांधी की प्रतिमा की साफ सफाई शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती, त्रिलोक जम्वाल, किरपाल परमार, महापौर कुसुम सदरेट, राकेश शर्मा द्वारा की गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।