हिमाचल में सरकारी स्कूलों में विद्यार्थी भी खेलेंगे शह-मात का खेल
May 31st, 2019 | Post by :- | 166 Views

प्रदेश के सरकारी स्कूलों की खेल गतिविधियों में शतरंज को शामिल किया जाएगा। पहली से पांचवीं कक्षा के बच्चों की बौद्धिक क्षमता बढ़ाने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है। प्रदेश में आयोजित होने वाली अंडर-12 खेलों में शतरंज प्रतियोगिता भी करवाई जाएगी।

प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने गुरुवार को जिला उपनिदेशकों से शतरंज में रुचि रखने वाले शिक्षकों का ब्योरा दस दिन में मांगा है। सरकार शतरंज को विषय के तौर पर पहली से पांचवीं कक्षा तक शुरू करने पर विचार कर रही है।

एससीईआरटी सोलन द्वारा शिक्षा विभाग के साथ मिलकर इसके लिए पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा है। पाठ्यक्रम तैयार होने तक सरकार ने 12 साल की आयु तक के बच्चों की खेल गतिविधियों में जल्द शतरंज को शामिल करने का फैसला लिया है।

संयुक्त निदेशक प्रारंभिक शिक्षा हितेश आजाद ने बताया कि प्रदेश के सभी जिला उपनिदेशकों को पत्र जारी कर शतरंज में रुचि रखने वाले जेबीटी शिक्षकों का ब्योरा मांगा है।

ब्योरा मिलते ही स्कूली खेल गतिविधियों में शतरंज को भी शामिल कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में अंडर 12 की खेल प्रतियोगिताएं शुरू होने वाली हैं।

ऐसे में निदेशालय ने प्रतियोगिता में शतरंज को शामिल करने का फैसला लिया है। शतरंज को विषय के तौर पर भी शामिल करने के प्रयास जारी हैं। पाठ्यक्रम तैयार होते ही पहली से दसवीं कक्षा तक शतरंज विषय शुरू कर दिया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।