सुजानपुर फिर से नया इतिहास रचने को बेताब : राणा #news4
October 31st, 2022 | Post by :- | 74 Views

सुजानपुर: 2017 में प्रदेश की सियासत का भुगोल बदल चुके सुजानपुर के चुनाव पर पूरे प्रदेश की नजरें लगी हुई हैं। सुजानपुर के चुनाव का जिक्र व फिक्र प्रदेश के बच्चे-बच्चे की जुबान पर है। इस कारण से सुजानपुर कांग्रेस के जयेष्ठ कार्यकर्ताओं व उनका चुनाव प्रचार में सहयोग कर रहे सर्वकल्याणकारी संस्था के तमाम विंगों के श्रेष्ठ कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी व जवाबदेही इस चुनाव के प्रति और भी बढ़ गई है। यह बात सुजानपुर के गांव-गांव में जन समर्थन जुटाने के लिए निकले प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने नुक्कड़ जनसभाओं में जनता से संवाद करते हुए कही है। राणा ने कहा कि उनकी कार्यशैली सुजानपुर की टेस्टड व ट्रस्टड है। जिस पर सुजानपुर की जनता का भरोसा बना हुआ है। शायद यही कारण है कि सुजानपुर में विधायक और जनता का यह नाता एक पारिवारिक नाता बन चुका है। जिसके चलते सुजानपुर में राजेंद्र राणा का चुनाव सुजानपुर का हर नागरिक चुनाव प्रचार की जिम्मेदारी व जवाबदेही संभालते हुए चुनाव खुद लड़ रहा है।

यह किसी भी सियासी आदमी के लिए उसकी बेहतर कार्यशैली का प्रमाण है और यही सबूत सुजानपुर में उन्हें व सुजानपुर के तमाम कार्यकर्ताओं को प्रदेश भर में जेयष्ठ और श्रेष्ठ साबित कर रहा है। राणा ने कहा कि चुनाव की बेला में हर आम और खास का स्नेह, समर्थन और सम्मान उन्हें चुनाव प्रचार के दौरान मिल रहा है। वह समर्थन इस बात का सबूत बन रहा है कि सुजानपुर के सियासी योद्धा कार्यकर्ता एक बार फिर जीत का नया कीर्तिमान स्थापित करेंगे। उन्होंने कहा कि महंगाई, बेरोजगारी व भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बीजेपी के नेता चुनाव प्रचार में बगलें झांक रहे हैं। आम आदमी के मुद्दों पर उनसे कोई जवाब देते हुए नहीं बन रहा है। जबकि कांग्रेस की 10 गारंटियों पर आम नागरिक भरोसा ही नहीं जता रहा है। बल्कि कांग्रेस के पक्ष में वकालत करता हुआ नागरिक यह भी बता व जता रहा है कि कांग्रेस की सरकार बनेगी तो ओपीएस बहाल होगी। ओपीएस बहाल होगी तो प्रदेश की तीन चौथाई आबादी को इसका सीधा लाभ होगा व इस तीन चौथाई आबादी का जीवन सुगम व साधन संपन्न बनेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।