Lockdown के दौरान शक्की पार्टनर ने कर दिया है परेशान तो इस तरह करें हैंडल
April 19th, 2020 | Post by :- | 69 Views

रिश्ता कोई भी हो उसमें लगे अनावश्यक बंधन उसे मजबूत नहीं कमजोर बनाने का ही काम करते हैं। हाल ही में खबरें आ रही हैं कि जब से लॉकडाउन हुआ है परिवारों में घरेलू हिंसा के मामले बढ़ गए हैं। किसी भी रिश्ते में लड़ाई-झगड़ा तभी होता है जब एक व्यक्ति की सोच दूसरे व्यक्ति से अलग होती है या फिर कोई व्यक्ति अपने पार्टनर पर शक करता है या फिर घर का हर फैसला खुद ही लेना चाहता है। अगर आपका पार्टनर भी नेचर से ऐसा ही कुछ है तो इन 5 तरीकों से करें उसे हैंडल।

1-समझाएं अपनी बात-
लॉकडाउन के दौरान वर्क फ्रॉम होम करते समय यदि आपको फोन पर बात या ऑनलाइन चैटिंग करते देख आपके पार्टनर को आपकी वफादारी पर शक होता है तो आप सबसे पहले अपने पार्टनर को समझाने की कोशिश करें। उन्हें समझाएं कि उन्हें आप पर विश्वास रखना चाहिए।

2-पर्सनल स्पेस की मांग-
अगर पार्टनर का शक्की स्वभाव आपके रिश्ते के लिए घुटन बनता जा रहा है तो एक बार अपने पार्टनर से बात करके देखें। उनसे अपने रिश्ते के लिए पर्सनल स्पेस की मांग करें। असल जिंदगी में आप दोनों का अपना एक अलग अस्तित्व और अलग लाइफ है। यही वजह है कि आप दोनों को ही अपने लिए एक अलग पर्सनल स्पेस चाहिए।

3-आपकी चॉइस-
छोटे कपड़े मत पहनो, फलां दोस्त का साथ छोड़ दो, फलां जगह मत जाया करो आपने कई बार लोगों को यह बातें करते सुना होगा। अगर आपके पार्टनर का नेचर भी इतना ही डॉमिनेटिंग है तो पार्टनर को समझाएं कि वो आपकी चॉइस को भी अहमियत देते हुए उन्हें समझने की कोशिश करें।

4-काउंसलर की लें मदद-
पति या पत्नी में से कोई भी व्यक्ति अगर घर में अपने पार्टनर पर हर समय हावी रहता है। घर और घर में रहने वाले सभी लोगों की लाइफ से जुड़े फैसले करने की इजाजत सिर्फ उसी को है तो ऐसे रिश्ते से अपनी मर्जी से निकलना बेहद मुश्किल काम होता है। ऐसे मामलों में आप काउंसलर की मदद ले सकते हैं।

5-हद से ज्यादा बढ़ जाएं बात तो-
अगर अपने रिश्ते में रहकर आपको मानसिक या शारीरिक रूप से कोई नुकसान हो रहा है तो ऐसे रिश्ते को खत्म कर देना ही बेहतर है। ऐसे में सबसे पहले उन्हें समझाने के लिए पार्टनर के दोस्तों, अपने मां-बाप या उनके करीबियों की मदद लें। अगर बात तब भी न बनें तो शारीरिक नुकसान से बचने के लिए पुलिस की भी मदद ले सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।