स्वाद के साथ-साथ स्वास्थ्य का भी रखें ध्यान…
September 9th, 2019 | Post by :- | 154 Views

आजकल मोमोज का क्रेज काफी बढ़ गया है…या यू कहिए मोमोज के चटपटे स्वाद और तीखी चटनी ने लोगों को अपना दीवाना बना दिया है. छोटे बच्चे से लेकर बड़े तक हर किसी की जुबान पर मोमोज ने अपनी जगह बना ली है. इतना ही नहीं मोमोज ने गोलगप्पों, समोसों और कई तरह के फास्ट फूड को पीछे छोड़ दिया है. जहां पहले हर जगह गोल गप्पे और बर्गर के स्टाल दिखाई देते थे. अब उन सड़कों पर जगह-जगह आपको मोमोज के स्टॉल्स दिखाई देंगे.. ना सिर्फ स्टॉल्स, बल्कि उनके पास खड़े होकर खाने वाले भी बहुत होते है और स्वाद का मजा ले रहे होते है. मसालेदार लाल चटनी के साथ मोमोज की एक प्लेट की सिर्फ देखने भर से ही लोगों की जीभ ललचाने लगती है.

जुबान पर स्वाद की वजह..

इसके बढ़ते क्रेज की खास वजह ये भी है कि मोमोज ने अपना जादू कई तरह के स्वाद में ऑप्शंस में बिखर दिया हैं… अफगानी मोमोज,फ्राइड मोमोज, तंदूरी मोमोज, चॉकलेट मोमोज, चिल्ली मोमोज,आटे के मोमोज,सूप मोमोज,चीज मोमोज,पनीर मोमोज,कीमा मोमोज,चिकन मोमोज,वेज मोमोज,स्वीट मोमोज,शोगो शबरील मोमोज,सोया चंक्स मोमोज, झोल मोमोज,ग्रीन मोमोज,फिश मोमोज

तीखी चटनी 

जैसे पानी के बिना गोल गप्पा अधूरा सा लगता है. ऐसे ही मोमोज चटनी के बिना अधूरे से लगते है. कई लोग तो ऐसे भी ही हैं,जो सिर्फ चटनी की वजह से मोमोज खाने का शौक रखते है. और अब तो चटनी भी कई तरह की बनने लगी है..जो मोमोज के स्वाद को और मजेदार बना देती है.

स्वाद ही नहीं,स्वास्थ्य का भी रखें ध्यान

मोमोज खाइए और स्वाद को मजेदार बनाइए. लेकिन अपनी सेहत का भी ध्यान जरूर रखिए. क्योंकि स्वाद के साथ-साथ स्वास्थ्य की देखभाल भी जरूरी है, ‘’मोमोज खाइए,मगर सेहत को ध्यान में रखकर,क्योंकि आपकी स्वाद की आदत आपकी जिंदगी पर भारी पड़ सकती है.’’

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।