आर्टिफिशियल स्वीटनर की बजाय लें नेचुरल स्वीटनर, नहीं होगा कोई नुकसान
December 23rd, 2019 | Post by :- | 161 Views

कई लोगों को मीठा खाना बहुत अधिक पसंद होता है। ऐसे में अगर उन्हें डायबिटीज या शुगर की बीमारी हो जाए तो मीठा उनके लिए खतरनाक साबित होता है। अक्सर डायबिटीज के मरीज अपने मीठा खाने की इच्छा पूरी करने के लिए आर्टिफिशियल स्वीटनर का उपयोग करने लगते हैं। जिनसे हमारे शरीर में नुकसान पहुंचता है। ये आर्टिफिशियल स्वीटनर हमारे वजन को बढ़ाते को बढ़ाते हैं जिसे इससे टाइप टू तरह का डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए हमें आर्टिफिशियल स्वीटनर की बजाय नेचुरल स्वीटनर का उपयोग करना चाहिए। जिससे हमारी सेहत पर कोई नुकसान भी ना हो और मीठा खाने की इच्छा भी पूरी की जा सके।

हर्बल टीः

चाय में आर्टिफिशियल स्वीटनर का उपयोग करने की वजह आप हर्बल टी को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। हर्बल टी प्राकृतिक तौर पर मीठा पन लिए होता है। खासतौर पर यह सर्दियों में सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है। हर्बल टी जैसे कि हिबिस्कस टी और बैरी टी इन सभी में प्राकृतिक रूप से मीठा पर मौजूद होता है। इनमें इसके अलावा विटामिंस और मिनरल्स भी बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते हैं जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं। ये बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं। अगर आपका हर्बल टी के नेचुरल मीठे से काम ना हो तो आप इसमें ऊपर से थोड़ा सा शहद मिला सकते हैं।

फ्रूट जूसः

फल सेहत के लिए अच्छे होते हैं। फलों में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर मौजूद होता है। ऐसे में एक शुगर का मरीज भी फलों का सेवन कर सकता है। फलों में आप संतरा और कीवी जैसे फलों का सेवन कर सकते हैं। इनमें बहुत अधिक मात्रा में विटामिन सी मौजूद होता है। साथ ही यह हमारे ब्लड शुगर पर कोई विपरीत परिणाम नहीं डालते।

शहद एक नैचुरल स्वीटनर है। अगर शुगर लेवल बहुत अधिक ना हो तो डॉक्टरों की सलाह से आर्टिफिशियल स्वीटनर की बजाय शहद का इस्तेमाल सेहत के लिए ज्यादा लाभदायक होता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।