तारा मंदिर दुर्गा पूजा समारोह का समापन समारोह 8 अक्तूबर को
October 4th, 2019 | Post by :- | 392 Views

कांगड़ा के समीप घुरकड़ी स्थित तारा मंदिर में हर वर्ष की भांति इस बार भी दुर्गा पूजा समारोह 29 सितम्बर से शुरू हो चुका है, जो 8 अक्तूबर को महादशमी के अवसर पर दुर्गा मूर्ति विसर्जन के साथ सम्पन्न होगा। यह जानकारी देते हुए प्रचार सदस्य तारा मन्दिर घुरकड़ी एलके घोष ने बताया कि यह इस वर्ष यह 51वां समारोह है और हर वर्ष इस आयोजन को बड़े श्रद्धाभाव से मनाया जा रहा है। इस मन्दिर में दुर्गा मां महिषासुर मर्दनी के स्वरूप की पूजा के साथ-साथ दो पुत्रियों लक्ष्मी व सरस्वती जी तथा दो पुत्र कार्तिक व श्रीगणेश जी की भी पूजा की जाती है। उन्होंने बताया कि आरम्भ में यह समारोह केवल पश्चिम बंगाल तक ही सीमित था, लेकिन वर्तमान में यह पूरे भारत ही नहीं बल्कि विश्व भर में बड़ी श्रद्धा से मनाया जा रहा है। जिला कंागड़ा में इसका आरम्भ धर्मशाला के समीप योल नामक गांव में सन् 1967 में हुआ था, जिसके पश्चात इसका स्थानांतरण तारा मंदिर घुरकड़ी में कर दिया गया, जहां परम पूज्य लाल बाबा जी की देखरेख में इसे आयोजित किया जा रहा है।
एलके घोष ने बताया कि शांतिनिकेतन की प्रसिद्ध बंगाली मूर्तिकार श्रीपाल ने महिषासुर मर्दिनी दुर्गा, लक्ष्मी, गणेश व कार्तिक की मूर्तियों का निर्माण किया है। इस समारोह में जिला के सभी बंगाली परिवारों के साथ-साथ स्थानीय लोग भी भारी संख्या में शामिल होते हैं। उन्होंने बताया कि 8 अक्तूबर को महादशमी के पावन अवसर पर मां दुर्गाजी की प्रतिमा का बनेर खड्ड में विसर्जन किया जाएगा, जिसमें हजारों श्रद्धालु भाग लेंगे। जबकि 13 अक्तूबर को तारा माता पूजा के उपरांत मंदिर परिसर में भंडारे का आयोजन किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।