सोलन अस्पताल में तीसरे दिन मिल रही टेस्ट रिपोर्ट #news4
June 17th, 2022 | Post by :- | 98 Views

सोलन : क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। अस्पताल में टेस्ट करवाने आने वाले मरीजों को तीसरे दिन रिपोर्ट मिल रही है। इसके पीछे कारण यह है कि एसआरएल लैब बंद होने के बाद यहां पर कृष्णा लैब ने अभी तक अपनी मशीनें स्थापित नहीं की हैं। इसके चलते मरीजों से सैंपल एकत्र कर जांच के लिए प्रदेश से बाहर भेजे जा रहे हैं, जिसकी रिपोर्ट आने में तीन दिन तक का समय लग रहा है।

ऐसे में कई लोग निजी लैब में टेस्ट करवाने के लिए भी मजबूर हो रहे हैं। इससे उन्हें अधिक पैसे खर्च करने पड़ रहे हैं। वहीं कृष्णा लैब की ओर से अभी दो घंटे तक ही सैंपल लिए जा रहे हैं। हालांकि अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि उन्होंने कई दिन पहले नई कंपनी को लैब स्थापित करने के लिए स्थान उपलब्ध करवा दिया है। वहीं कृष्णा लैब के अधिकारियों का कहना है कि इस मामले में अस्पताल के उच्च अधिकारी ही बताएंगे। इस विषय में नई कंपनी के प्रदेश प्रभारी भी कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। इससे यहां पर मरीजों को टेस्ट करवाने के लिए परेशान होना पड़ रहा है। वहीं अस्पताल प्रबंधन द्वारा भी कई बार शीघ्र मशीनें स्थापित करने के लिए कहा गया है। सरकारी लैब में 12 बजे तक ही होते हैं टेस्ट

क्षेत्रीय अस्पताल की सरकारी लैब में भी सुबह 10 से 12 बजे तक ही मरीजों के सैंपल एकत्र किए जाते हैं। इसके बाद लैब तकनीशियनों द्वारा सैंपलों की जांच व दो बजे के बाद मरीजों को रिपोर्ट दी जाती है। इसके पीछे एक कारण सरकारी लैब में कर्मचारियों की कमी है। वर्तमान में सरकारी लैब में चार पद खाली हैं। कम स्टाफ के चलते कर्मचारियों पर कार्य का अतिरिक्त बोझ रहता है। यहां पर मरीजों की टेस्ट करवाने के लिए भीड़ उमड़ रही है। कृष्णा लैब को अस्पताल परिसर में लैब स्थापित करने के लिए जगह प्रदान की गई है। इस संबंध में लोक निर्माण विभाग को पत्र द्वारा भी सूचित कर दिया गया है। बाकि लैब में मशीनें स्थापित करना कंपनी का कार्य है। उन्होंने कई बार इस संबंध में कंपनी के अधिकारियों से बातचीत की है।

– डा. एसएल वर्मा, चिकित्सा अधीक्षक क्षेत्रीय अस्पताल सोलन।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।