लापता मतदान कर्मी का 8वें दिन भी नहीं मिला सुराग, परिजनों ने ADM से लगाई न्याय की गुहार #news4
November 19th, 2022 | Post by :- | 96 Views

धर्मशाला  : विधानसभा क्षेत्र जयसिंहपुर के आशापुरी पोलिंग स्टेशन पर चुनाव ड्यूटी देने गए रोंखर निवासी संजीव कुमार का 8वें दिन भी कोई सुराग नहीं लग पाया है। ऐसे में संजीव के परिजनों ने गांव के अन्य लोगों के साथ एडीएम रोहित राठौर से न्याय की गुहार लगाई है। परिजनों ने कुछ सवालों को लेकर एक ज्ञापन एडीएम रोहित राठौर को सौंपा तथा मतदान केंद्र में ड्यूटी में तैनात अन्य स्टाफ सदस्यों से सख्ती से पूछताछ करने की मांग की है। वहीं ज्ञापन सौंपकर जब संजीव की पत्नी बबीता एडीएम कक्ष से बाहर आई तो बेसुध हो गई और वहीं मां दर्शनी देवी के आंखों के आंसू भी थमने का नाम नहीं ले रहे थे। परिजनों व ग्रामीणों ने कहा कि 12 नवम्बर से लापता संजीव का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि यदि 2 दिन के भीतर पोलिंग स्टेशन के मतदान कर्मियों से पूछताछ नहीं की गई तो ग्रामीण सड़क पर धरना देने को मजबूर होंगे, जिसकी पूरी जिम्मेदारी पुलिस व प्रशासन की होगी।

परिजनों ने ये उठाए सवाल

  • 10 नवम्बर को चुनाव डयूटी पर पहुंच जाने के बाद 10 नवम्बर की रात व 11 नवम्बर के दिन ड्यूटी करने के बाद ऐसा क्या हुआ कि 11 नवम्बर की रात को संजीव के बदले ड्यूटी पर दूसरा आदमी बुलाना पड़ा।
  • 11 नवम्बर की रात को ऐसा क्या हुआ कि 2 रजाइयां जल गई, यह किसने लगाई।
  • क्या कारण था कि उस रात को स्कूल के सीसीटीवी कैमरे बंद किए गए थे।
  • अगर संजीव बीमार था तो उसे एंबुलैंस बुलाकर अस्पताल क्यों नहीं ले जाया गया।
  • यदि उस रात संजीव ने गलत काम किया तो उस रात उसे पुलिस स्टेशन क्यों नहीं भेजा गया।
  • संजीव के कपड़े पोलिंग स्टेशन से एक किलोमीटर दूर कैसे पहुंच गए।
  • संजीव के फोन की बैटरी 40 फीसदी होने के बावजूद उसका फाेन उसके बैग में स्विच ऑफ क्यों था जबकि हर व्यक्ति फोन जेब में रखता है।
  • अगर रजाइयां संजीव कुमार ने जलाई थी तो उसके 2800 रुपए अधिकारी द्वारा क्यों दिए गए।

क्या बोले एडीएम रोहित राठौर
एडीएम रोहित राठौर ने बताया कि लापता मतदान कर्मी के परिजन मिलने आए थे। परिजनों ने जो सवाल उठाए हैं, जिन पर गौर किया जाएगा। है। परिजनों द्वारा उठाए सवालों संबंधी ज्ञापन को पुलिस को आगामी कार्रवाई हेतु प्रेषित किया जा रहा है। संजीव की तलाश के लिए एक अलग से टीम बनाई जा रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।