कॉलेज परिसर में खेल मैदान का बनना सराहनीय, पर चहेते ठेकेदारों द्वारा गलत काम करना निंदनीय : जागीर मेहता #news4
January 15th, 2022 | Post by :- | 120 Views

बिलासपुर : घुमारवी कॉलेज परिसर में खेल का मैदान बन रहा है वह बनना चाहिए और वह अच्छे से अच्छा बनना चाहिए यह बात ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष जागीर सिंह मेहता ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा अपने चहेते ठेकेदारों को फायदा पहुंचाने के लिए सभी नियमों को दरकिनार कर महाविद्यालय में जो मैदान बन रहा है, उस जमीन से वन विभाग के द्वारा 14 पेड़ों के काटने की पुष्टि की है वह चिंताजनक है। लेकिन मंत्री के दबाव के कारण मात्र 14 पेड़ों का जुर्माना लगाना जबकि वहां से सैकड़ों पेड़ काटे गए हैं और 14 पेड़ों का जुर्माना भी वन विभाग के द्वारा मात्र लगभग 42,000 रुपये लगाया गया है, जो यह दर्शाता है कि यह सब मंत्री के कहने के अनुसार ही हुआ है क्योंकि इन पेड़ों की कीमत लाखों रुपए बनती है। इसके अलावा खेल के मैदान में करीब 50-60 फीट के लंबे हरे पेड़ मिट्टी में दबा दिए गए हैं जो आधे जमीन के अंदर व बाहर हैं। उनके लिए वन विभाग द्वारा कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है तथा उन्हें काटने की परमीशन देने के जुगाड़ में है। इस सारे खेल में जो ठेकेदार है वह भाजपा का जिला महामंत्री व खाद्य आपूर्ति मंत्री राजेंद्र गर्ग ने अपने विभाग में बोर्ड का डायरेक्टर भी बना रखा है, जिस कारण विभाग निष्पक्ष कार्यवाही नहीं कर पा रहा है।

वन विभाग द्वारा दबे हुए पेड़ों कार्रवाई करने के बजाय इन पेड़ों के काटने पर को परमिशन देने के जुगाड़ में है। भाजपा मंडल का चाहे  अध्यक्ष व महामंत्री या फिर अन्य पदाधिकारी व विभागों पर दबाव बनाकर ठेकेदारी कर रहे हैं और गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा जा रहा है जो निंदनीय और चिंतनीय विषय है। घुमारवी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा मंडल सरकारी खजाने को लूटने में दोनों हाथ लगी हुई है और विधानसभा का कोई भी विभाग हो, पहले  नेता से ही आज्ञा लेनी पड़ती है। इस सारे प्रकरण में कॉलेज प्रशासन व पीटीए कमेटी जिम्मेदार हैं। इससे पहले भी जब यह प्राधानाचार्य यहां पर थे तब भी पेड़ काटे गए हैं और उस समय भी वन विभाग ने लाखों रुपए जुर्माना वसूला गया था। घुमारवी ब्लॉक कांग्रेस मांग करती है कि इस प्रकरण की एक सप्ताह के अंदर निष्पक्ष जांच होनी चाहिए नहीं तो ब्लॉक कांग्रेस धरना प्रदर्शन करने को मजबूर हो जाएगी। यह धरना प्रदर्शन एसडीएम कार्यालय के बाहर किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।