सख्त होगा कर्फ्यू, बिना मुंह ढके नहीं निकल सकेंगे बाहर; अधिकारी जाएंगे कार्यालय
April 14th, 2020 | Post by :- | 160 Views

कोरोना के कारण प्रदेश में लगा कर्फ्यू और सख्त होगा आैर अब मुंह को बिना ढके घर से बाहर नहीं निकल सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के बाद अब प्रदेश में 3 मई तक कर्फ्यू को जारी रखने व इसे और सख्त करने का निर्णय लिया गया है। इसमें कोई ढील नहीं दी जाएगी और सड़क पर मुंह को बिना ढके निकलने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लोग अब सड़कों पर बेवजह नहीं घूम सकेंगे और सामान की खरीदारी घरों के आसपास ही करनी होगी। इस संबंध में प्रदेश सरकार ने निर्देश जारी कर दिए हैं। इसकी जानकारी अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने सचिवालय में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान दी। 20 अप्रैल को कोविड 19 के मामलों और स्थिति को जांचा जाएगा और समीक्षा की जाएगी। उसके आधार पर छूट को निर्धारित किया जाएगा। अभी जोन आधार पर कोई छूट नहीं रहेगी।

प्रदेश के सबसे बड़े मेडिकल काॅलेज एवं अस्पताल आईजीएमसी में कोरोना के मरीजाें को नहीं रखा जाएगा। यदि बाकी जगहों पर रखने की व्यवस्था नहीं होती है तभी अंतिम विकल्प रहेगा। इसे पूरी तरह से फंक्शनल बनाने के निर्देश जारी कर दिए हैं अब ओपीडी आैर सुपर स्पेशयलिटी की ओपीडी सामान्य रूप से चलेंगी। केंद्र सरकार से पालमपुर में कोविड 19 की जांच करने काे मंजूरी मिल गई है और जल्द ही वहां पर सैंपलों की जांच को शुरू कर दिया जाएगा। मेडिकल काॅलेज नेरचौक में भी सैंपलों की जांच को शुरू करने की अनुमति मांगी गई है। कोविड-19 संक्रमित मरीजों का पूरा प्रोटोकाल बनाया गया है और इसी प्रोटोकाल के आधार पर स्वस्थ होने के बाद भी चौदह दिन तक निगरानी में रखने के साथ उसी आधार पर डाइट दी जाएगी।

सचिवों और एचओडी को कार्यालय आने के आदेश

सरकार ने प्रदेश के सचिवालय के सचिवों सहित विभागाध्यक्षों को कार्यालय आने के आदेश जारी कर दिए हैं। 16 अप्रैल से कार्यालयों में आना होगा और बहुत कम स्टाफ को बुलाने का फैसला लिया गया है। सरकारी गाड़ियां जिन अधिकारियों को दी गई हैं, उन्हेें कार्यालय आना होगा।

सरकारी कर्मचारियों का एक दिन का वेतन होगा कोविड 19 फंड में

प्रदेश के सभी सरकारी कर्मचारियों का एक दिन का वेतन कोविड 19 फंड में जमा होगा। इसमें नियमित व अनुबंध पर सेवाएं प्रदान करने वाले करीब पौने तीन लाख कर्मचारी हैं। इस संबंध में डीडीओ को निर्देश दिए गए हैं और वेतन के जारी होने के साथ ही काट लिया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।