डाक्‍टरों ने इन्फेक्शन वाले थिएटर में कर दिया था आपरेशन, स्वास्थ्य निदेशक व टांडा प्रशासन को जुर्माना #news4
June 4th, 2022 | Post by :- | 97 Views

धर्मशाला : 2016 में डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल टांडा में आंखों का आपरेशन करवाने के बाद चार लोगों की आंखों की रोशनी चले जाने मामले में शनिवार को उपभोक्ता आयोग की अदालत फैसला सुनाया है। जिसमें पाया गया है कि टांडा में डाक्टरों ने आपरेशन तो ठीक किया था, लेकिन थिएटर में पहले से इन्फेक्शन था, जोकि उपकरणों के माध्यम से मरीजों की आंखों के पहुंच गया। जिसके लिए स्वास्थ्य निदेशालय और टांडा प्रशासन को कसूरबार मानते हुए छह लाख 47 हजार रुपये सात फीसद ब्याज दर के साथ जुर्माना के आदेश दिए है। यह फैसला उपभोक्ता संरक्षण आयोग कांगड़ा की अदालत में अध्यक्ष हिमांशु मिश्रा, सदस्य नारायण ठाकुर व आरती सूद ने सुनाया।

पीड़ितों की ओर से केस की पैरवी कर रहे अधिवक्ता एमजी ठाकुर ने बताया कि 14 दिसंबर 2016 को जिला कांगड़ा के त्रिलोक कुमार निवासी नगरोटा बगवां, गीता देवी निवासी डाडासीबा, इच्छया देवी निवासी सोलहदा और शशि पाल निवासी जवाली ने मोतियाबिंद के चलते दिसंबर 2016 को टांडा में अपनी एक एक आंख का आपरेशन करवाया था। उसके बाद इन इन चार लोगों की आंखों की रोशनी चली गई। टांडा में आपरेशन थिएटर में उस समय दो महिला व एक पुरुष डाक्टर यानि तीन डाक्टरों की टीम थी, जिन्होंने उनकी आंखों का आपरेशन किया था। की छानबीन में पाया गया कि डाक्टरों ने आपरेशन तो सही तरीके से किया था और मरीजों को दवाईयां भी सही दी गई थीं, लेकिन आपरेशन थिएटर ही संक्रमित था।

आपरेशन थिएटर में एमएसएसए नाम का इन्फेक्शन था। यह इन्फेक्शन आपरेशन में उपयोग हुए उपकरणों के माध्यम से मरीजों की आंखों में पहुंच गया था। इससे साफ अर्थ है कि आपरेशन थिएटर में टांडा प्रशासन स्वच्छता को लेकर गंभीर नहीं था। जिसको देखते हुए न्यायालय ने प्रति पीड़ित शिकायकर्ता त्रिलोक चंद, गीता देवी और शशि पाल को एक लाख 35 हजार रुपये वर्ष 2018 से अब तक सात फीसद ब्याज दर के साथ जुर्माना और 15-15 हजार रुपये शिकायत शुल्क देने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा इच्छया देवी जिनकी दूसरी आंख में भी 40 फीसद संक्रमण फैल गया था उन्हें दो लाख 42 हजार रुपये सात फीसद ब्याज सहित और एक लाख 20 हजार रुपये अतिरिक्त राहत राशि देने के आदेश दिए हैं। पीड़ितों को यह राशि टांडा प्रशासन और स्वास्थ्य निदेशालय देगा।

यह था मामला

14 दिसंबर 2016 को जिला कांगड़ा के विभिन्न क्षेत्रों से पांच मरीजों ने टांडा मेडिकल कालेज में अपनी आंखों का आपरेशन करवाया और अगले दिन यानि 15 दिसबर को चार मरीजों को छुट्टी दी गई। आपरेशन के बाद उन्हें जो दवाई आंख में डालने के लिए दी गई थी उसे डालते ही आंखों में जलन शुरू हो गई। 16 दिसंबर को एक मरीज की आंख में संक्रमण पाया गया। सभी मरीजों को वापस अस्पताल बुलाया गया। सभी की आंखो में संक्रमण था, इन्हें बेहतर उपचार के लिए टांडा से पीजीआइ रैफर किया गया। इनमें से तीन मरीज रोटरी आइ हास्पिटल मारंडा (पालमपुर) तथा दो मरीज पीजीआइ भेजा गया। इसमें एक मरीज की आंखों की रोशनी थोड़ी लौट आई थी, लेकिन चार मरीजों की आखों की रोशनी नहीं लौट पाई थी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।