हिमाचल प्रदेश में महंगा हो गया घर बनाने का सपना, 3500 रुपये तक बढ़ गए सरिये व ईंट के दाम #news4
April 23rd, 2022 | Post by :- | 127 Views

मंडी : महंगाई के कारण लोगों का नया मकान बनवाने का सपना दूर होता दिख रहा है। भवन निर्माण सामग्री की कीमतें दिन प्रतिदिन आसमान छू रही हैं। मिस्त्री व मजदूरों की दिहाड़ी भी लगातार बढ़ रही है। बिजली, पानी फिटिंग, लकड़ी व पेंट के दाम भी लोगों को डराने लगे हैं। सीमेंट व सरिये के दाम थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। भवन निर्माण सामग्री के साथ-साथ दवाई व पढ़ाई ने भी हर घर का बजट बिगाड़ दिया है। दवाइयों के दाम रोजाना बढ़ रहे हैं। मधुमेह,उच्च रक्तचाप की दवाइयों व एंटीबायोटिक के दामों में 10 से 15 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। कल तक पांच से सात रुपये में मिलने वाली पैरासिटामोल की 10 गोलियों की स्ट्रिप अब 10 रुपये में मिल रही है। निजी अस्पतालों में डाक्टर की पर्ची फीस,लैब टेस्ट,एक्स-रे व अल्ट्रासाउंड के दाम भी 20 प्रतिशत से अधिक बढ़े हैं। 1000 रुपये में होने वाले पेट के अल्ट्रासाउंड के अब 1500 से 1600 रुपये शुल्क लिया जा रहा है।

कागज महंगा होने से किताबों व कापियों के दाम अभिभावकों को डराने लगे हैं। थोडी राहत की बात यह है कि किताब,कापी व स्कूल ड्रेस विक्रेताओं के पास अभी पुराना स्टाक पड़ा हुआ है। कोविड की वजह से दो साल स्कूल आफलाइन नहीं लग पाए थे। पेट्रोल व डीजल के दामों में बढ़ोतरी से स्कूल बस संचालकों ने मासिक किराया 10 से 20 प्रतिशत तक बढ़ाया है। इससे अभिभावकों की जेब ढीली हो रही है।

भवन निर्माण सामग्री के दाम, 2020, 2021, 2022

  • ईंट, 5500, 7400, 8800 प्रति एक हजार
  • बालू, 1800, 2500, 3500 प्रति ट्राली
  • सरिया, 5600, 6300, 8800 प्रति क्विंटल
  • सीमेंट, 365, 410, 460 प्रति बैग

भवन निर्माण की लागत बढ़ी

सुंदरनगर आर्किटेक्‍ट पवन संसपाल ने कहा सामग्री महंगी होने से भवन निर्माण की लागत बढ़ गई है। घर बनाने में करीब 25 से 35 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। तीन साल पहले पहले एक वर्ग फीट निर्माण कार्य की दर 100 रुपये थी। अब 145 रुपये हो गई है। सीमेंट, सरिया, रेत व ईंटों के दाम लोगों की जेब हल्की कर रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।