मकर सक्रांति में दिखा प्रशासन की सख्ती का असर, तत्तापानी में नजर नही आ रही लोगों की भीड़ #news4
January 14th, 2022 | Post by :- | 55 Views

करसोग : जिला मंडी के तहत उपमंडल करसोग के तत्तापानी में मकर सक्रांति पर्व पर प्रशासन की सख्ती का असर दिख रहा है। यहां बड़ी कम संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। गर्म पानी के चश्मों में पवित्र स्नान करके श्रद्धालु सीधे घरों को वापस लौट रहे हैं। तत्तापानी में बेवजह किसी को रुकने की अनुमति नहीं है। करसोग प्रशासन ने खरीददारी के लिए जुटने वाली अनावश्यक भीड़ को रोकने के लिए पहले ही सड़कों के किनारे व मेला ग्राउंड में सजाई गई दुकानों को हटा दिया था। मकर सक्रांति के दिन गर्म पानी के चश्मों के समीप जो तुलादान के लिए पंडाल लगाए गए थे, उन्हें भी पुलिस ने हटा दिया है। ऐसे में स्नान करके लोग वापस लौट रहे हैं। तत्तापानी में शिमला-करसोग मुख्य मार्ग में वाहनों की आवाजाही सामान्य दिनों की तरह है। ऐसे में सुबह के समय बाजार पूरी तरह से सुनसान पड़े हैं।

बता दें कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए पांच जनवरी को सरकार ने धार्मिक आयोजनों सहित मेलों पर बंदिशें लगाई थी। जिसके बाद तत्तापानी में आयोजित होने वाले जिला स्तरीय मकर सक्रांति मेले को रद्द किया गया था। ऐसे में प्रशासन में मेला ग्राउंड और सड़कों पर अस्थाई दुकानों को लगाने की अनुमति नहीं थी। ताकि दुकानों में खरीददारी के लिए लोगों की भीड़ न जुटे, लेकिन इसके बाद भी व्यापारियों ने दुकानें सजानी शुरू कर दी, जिन्हें प्रशासन ने हटा दिया था। मकर सक्रांति में लोगों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए फ्लाइंग स्क्वायड का भी गठन किया गया है। जो गर्म पानी के चश्मों सहित बाजार में लोगों की गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है। गर्म पानी के चश्मों में स्नान करने के बाद लोगों को रुकने की अनुमति नहीं है। इस तरह मकर सक्रांति में सरकार के आदेशों की सही तरह से पालना हो रही है। एसडीएम सन्नी शर्मा का कहना है कि मकर सक्रांति में लोगों की अनावश्यक भीड़ न जुटे, इसके लिए उड़नदस्ता लोगों की गतिविधियों पर नजर रख रहा है। उन्होंने कहा अगर आदेशों की अवहेलना करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।