शिक्षकों की कमी से दांव पर शेईला स्कूल के बच्चों का भविष्य #news4
May 27th, 2022 | Post by :- | 190 Views

नेरवा : एक तरफ सरकार प्रदेश में बेहतरीन शिक्षा के दावे करती है, वहीं दूसरी तरफ कहीं स्कूल भवनों की कमी तो कहीं अध्यापकों की कमी के चलते छात्रों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है। कुछ ऐसे ही हालात से नेरवा तहसील की पंचायत रुसलाह की राजकीय उच्च पाठशाला शेईला गुजर रही है। इस स्कूल में महत्वपूर्ण विषयों के एक-दो नहीं पूरे चार पद रिक्त हैं। इस वजह से यहां पढ़ाई कर रहे 40 छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो गया है।

रोहित शर्मा ने बताया कि स्कूल में टीजीटी मेडिकल का पद आठ साल यानी 2014 से खाली पड़ा हुआ है और टीजीटी नान मेडिकल का पद 2018, मुख्याध्यापक का पद 2020 एवं टीजीटी आ‌र्ट्स का पद 2021 से रिक्त पड़ा हुआ है। इन महत्वपूर्ण विषयों के पद खाली होने से स्कूल में पढ़ाई कर रहे छात्रों के अभिभावकों को उनके भविष्य चिता सता रही है। अब हालत यह हो गई है कि इस स्कूल में मात्र 40 छात्र ही रह गए हैं और शीघ्र ही अध्यापकों के पद नहीं भरे गए तो स्कूल में ताला लटक जाएगा। सरकार की अनदेखी से घट रही छात्रों की संख्या

अभिभावकों के अनुसार इस पाठशाला में इससे पहले करीब 100 छात्र पढ़ाई करते थे, लेकिन सरकार की अनदेखी के चलते इनकी संख्या घटकर मात्र 40 रह गई है। स्थानीय निवासी रोहित शर्मा ने बताया कि शेईला पंचायत के कोटी, सरांह, शानग, ढकोली, रेवटी व खोखा के करीब छह गांवों का केंद्र बिदु है और इस स्कूल में इन गांवों के छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। कुछ साल पहले तक इस स्कूल में सौ के करीब छात्र पढ़ते थे, लेकिन अध्यापकों की कमी के चलते अधिकांश अभिभावकों ने मजबूरन अपने बच्चों को इस स्कूल से निकाल कर अन्य स्कूलों में भेज दिया है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों से कई बार उठा चुके हैं मामला

अभिभावकों का आरोप है कि इस बारे में कई बार शिक्षा विभाग के अधिकारियों से गुहार लगाई जा चुकी है, लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है। स्कूल में अध्यापकों की कमी के चलते उन्हें अपने बच्चे मजबूरन करीब 15 किलोमीटर दूर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल नेरवा में भेजने पड़ रहे हैं, जिसमें उनका आधा दिन तो सफर में ही खत्म हो जाता है व उनकी पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हो रही है। शिक्षा मंत्री से लगाई पद भरने की मांग

राजकीय उच्च विद्यालय शेईला के एसएमसी अध्यक्ष राजेंद्र जस्टा, अभिभावक सुनील, सुरेश, रणजीत, नारायण दत्त, विनोद, प्रकाश व राकेश ने शिक्षा मंत्री गोविद ठाकुर से गुहार लगाई है कि राजकीय उच्च पाठशाला शेईला में खाली पड़े अध्यापकों के पदों को प्राथमिकता के आधार पर भरा जाए, ताकि यहां पढ़ाई कर रहे छात्रों की पढ़ाई बाधित न हो।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।