खतरे के साए में देश का भविष्य – परिवहन विभाग बना मूकदर्शक हादसों से नहीं ले रहे सबक
June 22nd, 2019 | Post by :- | 263 Views

खतरे के साए में देश का भविष्य – परिवहन विभाग बना मूकदर्शक
हादसों से नहीं ले रहे सबक
देहरा, परिवहन विभाग द्वारा सरकार द्वारा बनाए गए नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं । हिमाचल प्रदेश के अंदर क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों की आंखें पूर्णतया बंद हैैं। देहरा डिपू की बस नंबर एचपी 36 क्च -3705 जो कि डाडासीबा से दोपहर को 1:50 बजे के करीब तलवाड़ा की तरफ जा रही थी ,यात्रियों से खचाखच भरी हुई थी जबकि स्कूल के बच्चे छत पर जानलेवा सफर कर रहे थे । इस तरह के मामले अपराध की श्रेणी में आते हैं लेकिन एचआरटीसी को नियमों का खौफ नहीं है। दर्दनाक हादसों के उपरांत भी लगता है कि परिवहन विभाग अभी भी मूकदर्शक बना हुआ है । चाहिए तो यह था कि विभाग कुल्लू में घटी दर्दनाक घटना के उपरांत हर तरफ सतर्कता दिखाता लेकिन मु य बाजार डाडासीबा में ही सरकारी बस की छत पर बच्चे सवार हो गए जो कि बस चालक तथा बस के परिचालक की लापरवाही को साफ बयान कर रहे थे । गुराला बस स्टैंड पर जब स्कूल के बच्चे उतर रहे थे तो छत के ऊपर बिजली की तारें बच्चों के लिए किसी मुसीबत से कम नहीं थी । यहां भी बड़ा हादसा हो सकता था । लापरवाही के इस मामले को लेकर जब देेेहरा के क्षेत्रीय प्रबंधक राजन कुमार से बात की गई तो उन्होंने भविष्य में संबंधित बस चालक तथा परिचालक को हिदायत देने की बात कही लेकिन कुछ ही देर बाद बे एक कार्यक्रम से निकले और पत्रकारों को ही उल्टी-सीधी बातें कहते हुए सुने गए । जब उनसे इस बारे बात की गई तो उन्होंने संतोषजनक जवाब नहीं दिया । कुल मिलाकर अधिकारी का रवैया हैरान करनेे वाला था ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।