अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के 36 करोड़ 36 लाख के ब्याज माफ करने के सरकारी निर्णय का सर्वत्र स्वागत: रमेश धवाला #news4
October 8th, 2022 | Post by :- | 99 Views

ज्वालामुखी : हिमाचल प्रदेश राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष एवं ज्वालामुखी के विधायक रमेश धवाला ने शनिवार को ज्वालामुखी में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कैबिनेट में पास किया है की हिमाचल प्रदेश अन्य पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास निगम के अंतर्गत लगभग 1000 लोगों के वर्ष 31 मार्च 2016 से पहले के लिए गए कर्ज के ब्याज को माफ कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि सरकार ने 36 करोड़ 36 लाख रुपये  का ब्याज माफ किया है जो अन्य पिछड़ा वर्ग के लगभग 1000 परिवारों के लिए राहत की बात है जिससे पता चलता है कि भाजपा सरकार अन्य पिछड़ा वर्ग की कितनी हितैषी है।

सरकार का पिछड़ा वर्ग की कर्ज माफ का सराहनीय कदम है

रमेश धवला ने कहा कि उन्होंने विधानसभा में यह मांग उठाई थी कि अन्य पिछड़ा वर्ग के कई लोग करज तले दब गए हैं उनके काम धंधे खत्म हो गए हैं और वह रकम तो क्या ब्याज भी अदा करने में सक्षम नहीं है। इसलिए 31 मार्च 2016 से पहले जिन लोगों ने हिमाचल प्रदेश पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास निगम से कर्ज लिए हैं। उनके कर्जे के ब्याज को माफ किया जाए उन्होंने कहा कि सरकार ने यह निर्णय बेशक देर से लिया है परंतु सराहनीय कदम है अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग सरकार के इस एहसान को भूलेंगे नहीं और आने वाले विधानसभा चुनावों में सरकार के साथ खड़े रहेंगे।

सरकार ने हिमाचल प्रदेश में न केवल अन्य पिछड़ा वर्ग, बल्कि हर वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए कार्य किए हैं

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने अपने पांच साल के कार्यकाल में हिमाचल प्रदेश में न केवल अन्य पिछड़ा वर्ग, बल्कि हर वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए कार्य किए हैं। प्रदेश सरकार हर मोर्चा पर प्रदेश की जनता के साथ खड़ी रही है। कोई भी विधानसभा क्षेत्र विकास कार्यों से अछूता नहीं रहा है। जनहित को लेकर भाजपा ने नीतियों को जनता भी जानये चुकी है। आगामी विस चुनावों में हिमाचल में जनता भाजपा का साथ देगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।