बिलासपुर: 10 फरवरी को पैतृक गांव पहुंचेगी शहीद अंकेश भारद्वाज की पार्थिव देह #news4
February 9th, 2022 | Post by :- | 150 Views

अरुणाचल प्रदेश हिमस्खलन में शहीद हुए हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के सेऊ गांव के 22 वर्षीय 19 जैक राइफलमैन अंकेश भारद्वाज की पार्थिव देह गुरुवार को घुमारवीं पहुंचेगी। यहां सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। बुधवार 11 बजे तक माता-पिता और परिजन अंकेश की सलामती की दुआएं करते रहे। इसके बाद पिता पांचा राम को सेना की तरफ से फोन पर इसकी पुष्टि की गई तो उनकी सारी उम्मीदें टूट गईं। पूरा माहौल गमगीन हो गया। बेटे की शहादत की खबर सुनकर पिता पांचा राम भीतर से एकदम टूट गए और माता कश्मीरी देवी पत्थर बन गई। छह जनवरी को अंकेश की बर्फीले तूफान में लापता होने की खबर मिलने के बाद से ही क्षेत्र के लोग उनके घर पर माता-पिता को सहारा देने पहुंच रहे थे।

मंगलवार रात को शहादत की खबर मिलने के बाद से सैकड़ों लोग अंकेश के घर पहुंचे और उनके माता पिता को ढांढस बंधाया। बुधवार सुबह तक अंकेश के पिता इस सच को मानने के लिए तैयार नहीं थे कि उनका बेटा अब इस दुनिया में नहीं रहा। वे कह रहे थे कि उनका बेटा कोमा में है। वहीं, अंकेश की शहादत की खबर मिलते ही समूचे क्षेत्र के लोग शहीद के घर पहुंचे। शहीद सैनिक की 92 वर्षीय दादी को सुनाई नहीं देता है। दोपहर तक उन्हें अंकेश की शहादत की जानकारी नहीं दी गई थी, लेकिन उसके बाद जब उन्हें बताया गया तो उनके आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे। अपने बड़े भाई को अपना आदर्श मानने वाला छोटा भाई आकाश अब भी विश्वास नहीं कर पा रहा कि उसका भाई भारत माता की सेवा के लिए जान न्योछावर कर गया।

अंकेश की तस्वीर को सीने से लगाकर रोती रही मां
बेटे की शहादत की खबर मिलने के बाद से ही अंकेश की मां कश्मीरी देवी बेटे की तस्वीर को हाथ में लेकर कभी उसे चूमती तो कभी सीने से लगाती। वह लगातार बेटे की तस्वीर पर नजरें बनाकर बैठी रहीं। आंसुओं के सैलाब में बेटे से बिछुड़ने का दुख बयान नहीं किया जा रहा। गांव की महिलाएं शहीद की मां को ढांढस बंधाती रहीं, लेकिन मां की जुबां पर अपने लाल के किस्सों, कहानियों के सिवा कुछ और नहीं था।

एसडीएम घुमारवीं राजीव ठाकुर ने बताया कि शहीद अंकेश भारद्वाज की पार्थिव देह वीरवार को घुमारवीं पहुंचेगी। वीरवार को ही सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।