भगवान के नाम का संकीर्तन मनुष्य को संसार सागर से पार लगाता है
February 23rd, 2020 | Post by :- | 158 Views

” भगवान के नाम का संकीर्तन मनुष्य को संसार सागर से पार लगाता है” उक्त वाक्य पंडित सुमित शास्त्री ने शिव मंदिर निचला गढ़ में श्री मद भागवत कथा की पूर्णाहूति पर कहे । शास्त्री ने कहा जो अपने अहंकार के बल पर चलता है वो एक दिन जरूर गिरता है और जो भगवान के सहारे चलते हैं वो इस संसार सागर को गों के खुर के समान पार कर जाते हैं।ये मृत्यु रूपी नागिन तभी तक इस जीव के पीछे पड़ी रहती है , जब तक ये जीव भगवत शरण न ले ले । प्रभु की स्मृति सभी विपदाओं को दूर करती हैं।शास्त्री ने इसके बाद भक्तों को सुदामा चरित्र सुना भक्तों को भाव विभोर कर दिया । आरती व पूर्णाहूति के बाद सैकडों बांके बिहारी के भक्तों ने भंडारे का आनंद लिया । कथा में रूपलाल, अक्षय शर्मा, संजय शर्मा, मुकेश पंडित, ईशु, यशपाल पटियाल शास्त्री, सन्नी, सुशांत, आचार्य सुमित ने भाग लिया ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।