जहूर जैदी पर महिला आईपीएस के खुलासे से मचा हड़कंप
January 10th, 2020 | Post by :- | 297 Views

गुड़िया मामले के सूरज लॉकअप मर्डर प्रकरण में नया मोड़ आ गया है। आईपीएस अधिकारी सौम्या सांबशिवन द्वारा आईजी जहूर जैदी पर कोटखाई बिटिया रेप व मर्डर से जुडे़ सूरज हत्याकांड मामले में मानसिक रूप से प्रताडि़त करने के आरोपों के बाद पहाड़ के सियासी गलियारों में हड़कंप मच गया है।
प्रदेश सरकार भी वरिष्ठ अधिकारियों के इस रवैये से हैरत में है। प्रदेश में जिनके कांधों पर लॉ एंड आर्डर मेंटेन करने का जिम्मा है, वही अपने काम को लेकर स्वतंत्र नहीं तो अन्य विभागों में क्या हश्र होगा, ये सवाल भी उठने लगे हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि सरकार ऐसे अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई करेगी, जो गुड़िया दुष्कर्म केस के गवाहों पर दबाव डालने की कोशिश कर रहे हैं।

वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने चंडीगढ़ में सीबीआई अदालत में खुलासा करने के एक दिन बाद कहा कि बिटिया दुष्कर्म मामले में अपने बयानों को बदलने के लिए उन पर दबाव डाला जा रहा है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने गुरुवार को इस पूरे मामले पर कांगड़ा प्रवास के दौरान कहा कि यह मामला बहुत ही गंभीर है। वह इस पर कड़ी कार्रवाई करेंगे।

बुधवार को चंडीगढ़ में सीबीआई अदालत में आईपीएस अधिकारी सौम्या सांबशिवन ने कहा कि अपना बयान बदलने के लिए आईजी रैंक के अधिकारी जहूर जैदी के दबाव में थी। सौम्या सांबशिवन गुड़िया दुष्कर्म मामले के दौरान एसपी शिमला थीं। अब वह मामले में सीबीआई की गवाह हैं। उन्होंने सीबीआई के समक्ष यह भी खुलासा किया था कि वह सूरज के शव को छोड़ने के लिए आईजी जहूर जैदी के दबाव में थीं।

सौम्या मंडी जिला के पंडोह में आईआरबी तीन की कमांडेट हैं। बुधवार को वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी सौम्या सांबशिवन ने सीबीआई कोर्ट चंडीगढ़ में गुड़िया मामले में बतौर गवाह बयान दिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।