बरसात में टपकती है कुपवी अस्पताल की छत #news4
May 26th, 2022 | Post by :- | 58 Views

नेरवा : तहसील मुख्यालय कुपवी स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) की हालत दिन-प्रतिदिन जर्जर होती जा रही है। हालत यह है कि बारिश होने पर यहां पर पानी टपकना लगता है। इससे यहां पर लोगों को परेशान होना पड़ता है। लोगों ने प्रशासन और स्थानीय विधायक से जल्द नया भवन बनाने की मांग की है।

अति दुर्गम, दूरस्थ व पिछड़ी तहसील कुपवी की 15 पंचायतों के करीब 25 हजार लोग इस अस्पताल पर निर्भर हैं। 15 पंचायतों का स्वास्थ्य का जिम्मा संभाले क्षेत्र के इस अस्पताल की हालत दयनीय है। इस अस्पताल का छत जर्जर हालत में है। इसकी सुध न तो सरकार ले रही है न ही प्रशासन। शार्प संस्था के अध्यक्ष सुदर्शन धीरटा और महासचिव लोकेंद्र चौहान ने बताया कि उन्होंने इस मसले को अनेक बार सरकार और प्रशासन के समक्ष पत्राचार के माध्यम से उठाया है। स्थानीय विधायक बलबीर वर्मा को भी इस समस्या से अवगत करवाया जा चुका है, परंतु इसके बावजूद लोगों की समस्या को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि बारिश होने पर इस अस्पताल की छत टपक जाती है। हाल ही के दिनों में दो दिन हुई बारिश में पानी टपकने के कारण अस्पताल में मरीजों को अंदर बैठना तक मुश्किल हो गया था। बारिश में मरीजों के बिस्तर भीग गए। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में जब मानसून दस्तक देगा तो मरीजों और उनके तीमारदार को ज्यादा दिक्कत झेलनी पड़ेगी।

बीएमओ चौपाल डा. प्रेम चौहान ने बताया कि कुपवी अस्पताल में नए भवन का काम छह साल से चल रहा है। अभी तक 60 फीसद काम पूरा हुआ है। नौ वर्ष पहले सरकार ने प्राथमिक से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का दर्जा दिया था

करीब नौ वर्ष पहले प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कुपवी का दर्जा बढ़ाकर सरकार ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र किया था। लेकिन अभी तक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भवन का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया है एवं यह निर्माण कार्य काफी धीमी गति से चल रहा है। वर्तमान में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पुराने भवन में चल रहा है। 30 बिस्तर के इस अस्पताल में वर्तमान में केवल चार बिस्तर हैं, जो एक कमरे में लगे हैं। भवन की छत की मरम्मत करने की मांग

सुदर्शन धीरटा, लोकिद्र चौहान व स्थानीय लोगों ने प्रशासन और विधायक चौपाल से मांग की है कि जल्द सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के नए भवन का निर्माण कार्य पूरा किया जाए। ताकी लोगों को आ रही दिक्कत कम हो सके। उन्होंने मांग की है कि जब तक नया भवन बनकर तैयार नहीं हो जाता तब तक पुराने भवन की छत की मरम्मत की जाए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।