मजदूरों को राशन न मिलने पर विधायक का धरना, अधिकारी से भिड़े, एसडीएम ने शांत किया मामला
April 20th, 2020 | Post by :- | 87 Views

शहर में कश्मीरी मजदूरों को राशन न मिलने आैर कामगारों को खाने के लिए कोई व्यवस्था न होने के मामले में ठियोग के विधायक राकेश सिंघा ने एसडीएम शहरी के कार्यालय के बाहर धरना दिया। इन्होंने आरोप लगाया कि प्रशासन की आेर से कश्मीरी मजदूरों को राशन नहीं दिया जा रहा है। बिना किसी राशन के ही मजदूर रहने के लिए मजबूर है।

विधायक ने आरोप लगाया कि 25 हजार से ज्यादा मजदूर शहर में रहते हैं। इनके खाने की व्यवस्था प्रशासन की आेर से नहीं की जा रही है। वहीं जब राकेश सिंघा डीसी आफिस में धरना देने के लिए पहुंचे। इस दौरान जिला प्रशासन के अधिकारियों के समक्ष बात रखी, अधिकारियों ने भी अपना पक्ष रखा तो कुछ समय के लिए माहौल गरमा गया। एक समय तो विधायक अधिकारी से भिड़ गए।

अधिकारी ने साफ कहा कि हम राशन देने गए तो जामा मस्जिद के लोगों ने लेने से मना कर दिया। मौके पर भी अधिकारियों ने फोन पर जामा मस्जिद में बात की तो उन्होंने साफ किया कि राशन मिला है, लेकिन उन्हें कश्मीर जाना है। सरकार को इसकी व्यवस्था करनी चाहिए। इसके बाद अधिकारी ने जब जवाब दिया तो विधायक आैर अधिकारी के बीच फिर से तल्खी काफी तलखी हो गई।

इस मामले में एसडीएम शहरी नीरज चांदला ने अधिकारी को समझाया आैर विधायक से लिस्ट ली, जिन लोगों को राशन दिया जाना है।उन्होंने विधायक ने बताया कि जामा मस्जिद में तीन बार एनजीआे को राशन के लिए भेजा था, लेकिन उन्होंने राशन लेने से इंकार किया।

विधायक से मिलने के लिए पहुंचे नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री भी धरने पर बैठ गए। उन्होंने विधायक से अधिकारी के व्यवहार की निंदा की। इस मामले में जांच की मांग उठाई।

प्रशासन के 1200 मजदूरों के डाटा पर भी भड़के

विधायक को प्रशासन ने बताया कि 1200 मजदूरों को राशन दिया जा रहा है। इस पर विधायक ने कहा कि शहर में घर बनाने से लेकर गैस तक मजदूर की पीठ पर लाई जाती है। ये महज 1200 मजदूर ही करते हैं। शहर में 25 हजार मजदूर हैं। इनके खाने की व्यवस्था प्रशासन को करनी चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।