पांवटा सिविल अस्पताल में रेडियोलाजिस्ट की तैनाती को लेकर दूसरे दिन भी धरना जारी, 6 साल से अल्ट्रासाउंड मशीन बंद #news4
December 21st, 2021 | Post by :- | 94 Views

नाहन : पांवटा साहिब उपमंडल के सिविल अस्पताल में 6 साल से अल्ट्रासाउंड मशीन बंद होने के मामले सामाजिक संगठन दूसरे दिन भी अस्पताल परिसर में धरने पर बैठे रहे। सीएमओ ने धरने पर बैठे लोगों से सोमवार देर रात बातचीत की। मगर धरने पर बैठे लोग रेडियोलाजिस्ट की भर्ती करने पर अड़े रहे। प्राप्त जानकारी के अनुसार सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में चार विधानसभा क्षेत्र सहित उत्तराखंड व हरियाणा राज्य के लोग भी अपने उपचार करवाने के लिए आते है तथा प्रतिदिन 600 से अधिक ओपीडी होती है। जिनमें से 150 से अधिक गर्भवती महिलाएं अपना उपचार करवाने सिविल अस्पताल आते हैं। लेकिन सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में पिछले 6 वर्षों से रेडियोलाजिस्ट का पद खाली है। जिस कारण 6 साल से अल्ट्रासाउंड मशीन बंद पड़ी है।

गर्भवती महिलाओं को मजबूरन निजी अस्पतालों में महंगे दामों पर अल्ट्रासाउंड करवाने को मजबूर होना पड़ रहा है। रेडियोलाजिस्ट के तैनाती की मांग को लेकर पांवटा साहिब की सामाजिक संस्थाएं सिविल अस्पताल परिसर में सोमवार से धरने पर बैठे है तथा पूरी रात अस्पताल के बाहर कड़कती ठंड में बैठे रहे। सोमवार देर रात को सिरमौर के सीएमओ संजीव सहगल धरना स्थल पर पहुंच कर धरने पर बैठे लोगों से काफी देर तक बातचीत की। लेकिन धरने पर बैठे लोग रेडियोलॉजिस्ट की तैनाती पर अड़े रहे।

बहाती युवा विकास मंच के अध्यक्ष सुनील चौधरी, सुशील तोमर,नरेंद्र पाल,हंसराज चौधरी, संदीप चौधरी, महेंद्र सिंह, अनिल चौधरी, अजय चौधरी, गौरखनाथ,शेर सिंह, सतवीर सिंह, श्रवण कुमार, प्रदीप चौधरी, परमांन,कमल कुमार, रविंद्र चौधरी आदि ने बताया की कई बार सिविल अस्पताल में रेडियोलजिस्ट की तैनाती के लिए सरकार व प्रशासन को मांगपत्र भेज चुके है। लेकिन 6 साल बाद भी सरकार रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं कर सके हैं। जिस कारण 6 साल से अल्ट्रासाउंड मशीन बंद पड़ी है तथा गर्भवती महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया की जब तक सिविल अस्पताल में रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं होती तब तक सिविल अस्पताल के बाहर धरना जारी रहेगा। उधर सीएमओ सिरमौर संजीव सहगल ने बताया की सिविल अस्पताल में खाली पड़े रेडियोलाजिस्ट के पद को लेकर उच्च अधिकारी व सरकार को कई बार लिखित रूप में भेज चुके हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।