मनाली के गोशाल नाले में अचानक बढ़ा जलस्तर, अस्थायी पुल समेत दो लोग बहे, बचाव कार्य में जुटी टीम #news4
August 15th, 2022 | Post by :- | 82 Views

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में भारी बारिश ने फिर कहर बरपाया है। मनाली के सोलंग के स्थित गोशाल नाले में अचानक जल स्तर बढ़ने से लकड़ी के बना अस्थायी पुल को पार कर रहे दो लोगों के बहने की आशंका है। प्रशासन की टीम मौके पर मौजूद है और बचाव कार्य में लगी है। जानकारी के अनुसार नाले को पार करते समय अचानक जल स्तर बढ़ गया। इससे दो युवक पुल समेत बह गए। गौरतलब है कि यहां लंबे समय से स्थायी पुल बनाने की बात हो रही है, लेकिन अभी तक काम पूरा नहीं हो पाया है। इसके चलते लोगों को अस्थायी पुल से नाला पार करने में जान जोखिम में डालनी पड़ रही है। एसडीएम मनाली सुरेंद्र ठाकुर ने कहा कि प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दो लड़के नाले में बह गए हैं। नाले में बहे युवकों में कृष्ण(13-14) पुत्र हीरा लाल गांव गोशाल व राहुल (17-18) पुत्र हरि राम गांव बराहर शामिल हैं।

भारी बारिश ने बढ़ाई लोगों की परेशानी
भारी बारिश से कुल्लू जिले के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों की दिक्कतें बढ़ती जा रही हैं। जिले के निरमंड, कुल्लू, मनाली और आनी और बंजार डिवीजन में अभी भी 20 से ज्यादा सड़कें भूस्खलन के कारण बंद पड़ी हैं,। हालांकि लोक निर्माण विभाग भूस्खलन और बारिश से क्षतिग्रस्त सड़कों को बहाल करने में जुटा है, लेकिन मार्गों के बंद रहने के कारण लोग कई किलामीटर तक पैदल सफर कर अपने गांव पहुंच रहे हैं। सड़कों के बंद होने के कारण किसानों-बागवानों का सेब और अन्य फसलें भी सड़क तक नहीं पहुंच पा रही हैं। कई बागवानों ने बगीचों में सेब का तुड़ान रोक दिया है। किसान-बागवान आलम चंद, केहर सिंह, योगराज और ठाकुर सिंह का कहना है कि अगर समय रहते सड़कें बहाल नहीं हुई तो सेब पेड़ों में पक जाएगा। इसके कारण उन्हें मंडियों में सेब के अच्छे दाम नहीं मिलेंगे। इससे करोड़ों रुपये का नुकसान भी होगा। उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने कहा कि लोक निर्माण को जल्द बंद सड़कों को बहाल करने के निर्देश दिए हैं। लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता केके शर्मा ने कहा कि सड़कों को बहाल करने का प्रयास जारी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।