बैसाख अमावस्या को है सूर्य ग्रहण, 30 अप्रैल को रखें विशेष ध्यान : पंडित सचिन शर्मा
April 28th, 2022 | Post by :- | 339 Views

बैसाख अमावस्या को है सूर्य ग्रहण, 30 अप्रैल को रखें विशेष ध्यान : पंडित सचिन शर्मा

देहरा, इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल को लग रहा है । इस दिन वैशाख अमावस्या है। शनिवार दिन होने के कारण इसे शनि अमावस्या भी कहते हैं। मुख्यत: सूर्य ग्रहण अमावस्या तिथि को लगता है. सूर्य अपनी कक्षा में भ्रमण करता रहता है, लेकिन जब सूर्य और पृथ्वी के मध्य चंद्रमा आ जाता है तो हम लोगों को सूर्य दिखाई नहीं देता है, इसे ही सूर्य ग्रहण कहते हैं. जिसका ग्रहण होता है, वह ग्राह्य है, इसलिए सूर्य ग्रहण में सूर्य ग्राह्य है और चंद्रमा ग्राहक है।सूर्य ग्रहण में स्पर्श पश्चिम दिशा से होता है, चंद्रमा सूर्य को पीछे से ग्रसित करता है और ग्रहण का मोक्ष पूर्व दिशा से होता है।
सूर्य ग्रहण 2022 समय
30 अप्रैल दिन शनिवार को देर रात 12 बजकर 15 मिनट पर सूर्य ग्रहण प्रारंभ होगा। इसका समापन 01 मई दिन रविवार को प्रात: 04 बजकर 07 मिनट पर होगा। सूर्य ग्रहण का मोक्ष काल सुबह 04:07 बजे है।
पंडित सचिन शर्मा के अनुसार,
सूर्य ग्रहण का सूतक काल नहीं
यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। भारत में आंशिक सूर्य ग्रहण होगा, इसलिए सूतक काल मान्य नहीं होगा। 30 अप्रैल को लगने वाला सूर्य ग्रहण अटलांटिक, अंटार्कटिका, दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी पश्चिमी हिस्से और प्रशांत महासागर में दिखाई देगा।

ग्रहण के समय आम तौर पर गर्भवती महिलाओं को खास एहतियात बरतने की सलाह दी जाती है। बुजुर्ग और बच्‍चों की भी इस दौरान घर से बाहर निकलने की मनाही होती है।

दुष्प्रभाव से बचने के उपाय

धर्मशास्त्रों में जो उपाय बताए गए हैं उनमें पहला उपाय है ग्रहण के स्पर्श काल में स्नान करना। ग्रहण के पूरे समय में हवन करना। सूर्य के ग्रहण से मोक्ष होने पर दान करना। सूर्य ग्रहण के समापन के बाद स्नान करना।

सूर्य ग्रहण को क्यों नहीं देखना चाहिए
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जिनकी राशि में ग्रहण लग रहा हो, उस राशि के जातकों को सूर्य ग्रहण नहीं देखना चाहिए. इस आधार पर साल का पहला सूर्य ग्रहण मेष राशि में लग रहा है, इसलिए इस राशि के जातकों को सूर्य ग्रहण नहीं देखना चाहिए. ऐसा करने से वे ग्रहण के अशुभ फल से बच सकते हैं.

हालांकि जिनके लिए सूर्य ग्रहण शुभफल देने वाला है, उनको भी उस समय सूर्य को नहीं देखना चाहिए. ऐसी मान्यता है कि ग्रहण के समय में नग्न आंखों से सूर्य को देखने से आंखों में पीड़ा हो सकती है.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।