हिमाचल में उद्यमियों से होगा सीधा संवाद
October 31st, 2019 | Post by :- | 160 Views

हिमाचल सरकार का पर्यटन, आवास व मैन्यूफेक्चरिंग सेक्टर पर फोकस है। धर्मशाला में सात व आठ नवंबर को होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में इन मेगा क्षेत्रों के उद्यमियों के साथ सीधा संवाद होगा। हिमाचली उद्यमियों की विदेशी प्रतिनिधियों से बैठक भी करवाई जाएगी, ताकि स्थानीय निवेशक भी लाभान्वित हो सकें। ग्लोबल इन्वेस्टर मीट की तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए बुधवार को शिमला में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में बैठक हुई।

मुख्यमंत्री के मुताबिक हिमाचल सरकार विभिन्न क्षेत्रों में 566 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर कर चुकी है। इनमें 81319 करोड़ रुपये के निवेश क्षमता है। इससे करीब डेढ़ लाख लोगों को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध होगा। अधिकांश समझौता ज्ञापन उद्योग, पर्यटन और आवास क्षेत्रों में हस्ताक्षर किए गए हैं। ये न केवल राज्य के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करेंगे, बल्कि उन्हें स्वरोजगार के उपक्रम को अपनाने के लिए भी प्रोत्साहित करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि निवेशकों से व्यक्तिगत संपर्क सुनिश्चित करने पर ध्यान दिया जाना चाहिए ताकि जिन समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए जाएं उन्हें जल्द कार्यरूप रूप दिया जा सके। विभागों को समझौता ज्ञापन की प्रगति में तेजी लाने के लिए सक्रिय दृष्टिकोण  अपनाने के भी निर्देश दिए। सभी विभागों को भावी उद्यमियों की सुविधा के लिए प्रयास करने को कहा। उन्होंने उद्यमियों को राज्य सरकार द्वारा निवेशकों को दी जा रही सुविधाओं और प्रोत्साहन के बारे में सूचित करने के भी निर्देश दिए।

मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि ग्लोबल इन्वेस्टर मीट की सफलता के लिए सतत प्रयास किए जा रहे हैं। बैठक में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट की तैयारी को लेकर प्रस्तुति भी दी गई। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव राम सुगम, निशा सिंह, मनोज कुमार, आरडी धीमान, संजय गुप्ता, प्रधान सचिव ओंकार शर्मा, जेसी शर्मा, प्रबोध सक्सेना, केके पंत, सचिव देवेश कुमार, अमिताभ अवस्थी, निदेशक पर्यटन यूनुस, निदेशक उद्योग हंसराज शर्मा, निदेशक भाषा, कला एवं संस्कृति कुमुद सिंह, भारतीय उद्योग परिसंघ के सदस्य भी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।