धर्मशाला में विकास होगा, राजनीति नहीं
November 14th, 2019 | Post by :- | 158 Views

धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में राजनीति विकास के आड़े हरगिज नहीं आएगी। विधानसभा क्षेत्र या धर्मशाला शहर के विकास के लिए अगर पिछली कांग्रेस सरकार के शासनकाल में भी योजनाएं  श्ुरू की गई हैं या तैयार की गई हैं, तो उन्हें आगे बढ़ाया जाएगा। यह कहना है कि धर्मशाला के नवनिर्वाचित विधायक विशाल नेहरिया का। ‘दिव्य हिमाचल’ से रू-ब-रू हुए नेहरिया ने कहा कि धर्मशाला स्मार्ट सिटी में प्रस्तावित ट्यूलिप गार्डन या नए पार्कों के निर्माण की बात हो या फिर पास्सु मंडी व स्पोर्ट्स एक्सीलेंस सेंटर की स्थापना की, ये योजनाएं स्मार्ट सिटी को नए मायने दे सकती हैं। इसलिए इन पर काम किया जाएगा। इसके अतिरिक्त बस अड्डे के ऊपर मल्टी स्टोरी बिल्डिंग बनाकर उसकी छत को कोतवाली बाजार के लेवल पर लाकर धर्मशाला शहर में शिमला की तर्ज पर रिज का निर्माण करने से धर्मशाला को देश-दुनिया में नई पहचान मिलेगी। युवा विधायक समूचे हलके की आकांक्षाओं और अपेक्षाओं से भी भलीभांति परिचित हैं। यही कारण है कि वह ग्रामीण क्षेत्र की सड़कों पर विशेष ध्यान देने के साथ  ही सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाने को भी अपनी प्राथमिकताओं में गिनवाते हैं। विशाल नेहरिया स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवा युवाओं काका भविष्य संवारना चाहते हैं। उनका मानना है कि धर्मशाला को टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनाकर यहां स्वरोजगार के साधन विकसित किए जा सकते हैं। धर्मशाला के नए विधायक सड़कों पर गाडि़यों की बढ़ती भीड़ को शहर ही नहीं, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी भविष्य के संकट के रूप में देखते हैं। इसलिए वह यातायात के लिए रोप-वे के निर्माण पर जोर देने की बात कहते हैं।

धर्मशाला में डाक्टरों के लिए सीएम से करेंगे बात

धर्मशाला अस्पताल में निरंतर कम होते डाक्टरों के संबंध में वह शीघ्र ही मुख्यमंत्री से गुहार लगाने जा रहे हैं, ताकि चुनाव क्षेत्र के लोगों को दिक्कतों से न जूझना पड़े। युवा विधायक स्मार्ट सिटी धर्मशाला की छवि निखारने का भी इरादा रखते हैं, इसलिए वह शहर से आवारा पशुओं, कुत्तों और बेतरतीव पार्किंग का पुख्ता इंतजाम करने का इरादा रखते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।