1857 से पहले बने इस मंदिर में दी जाती थी अंग्रेजों की बलि ! आज भी बरकरार है बलि की परंपरा !
March 13th, 2019 | Post by :- | 171 Views

आपने देश के कई ऐसे मंदिरों के बारे में सुना होगा जहां आज भी बलि देने की प्रथा है.

लेकिन क्या आप एक ऐसे मंदिर के बारे में जानते हैं जहां जानवरों की नहीं बल्कि इंसानों की बलि चढ़ाई जाती थी.

आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां अंग्रेजों की बलि दी जाती थी.

दरअसल अंग्रेजों की बलि लेनेवाला यह अनोखा मंदिर गोरखपुर से 20 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद है, जो तरकुलहा देवी मंदिर के नाम से मशहूर है.

तरकुलहा देवी मंदिर

बताया जाता है कि इस मंदिर का निर्माण 1857 के संग्राम से पहले ही किया गया था.

डुमरी के क्रांतिकारी बाबू बंधू सिंह के पूर्वजों ने एक तरकुल यानि ताड़ के पेड़ के नीचे पिंडियां स्थापित की थी, जो आगे जाकर तरकुलहा देवी के रुप में विख्यात हुई.

ऐसी मान्यता है कि मां काली ही तरकुलहा देवी पिंडी के रुप में यहां विराजमान है. जो यहां के स्थानीय लोगों की कुलदेवी भी मानी जाती हैं.

अंग्रेजों का सिर किया जाता था अर्पण

बिहार और देवरिया जाने का मुख्य मार्ग शत्रुघ्नपुर के जंगल से होकर जाता था. इस रास्ते से गुज़रनेवाले अंग्रेजों का सामना कई बार क्रांतिकारी बंधु सिंह से हो जाता था.

कहा जाता है कि बंधू सिंह गोरिल्ला युद्ध नीति में निपुण थे

जब भी बंधू सिंह की मुठभेड़ अंग्रेजों से होती थी, तब बंधु सिंह अंग्रेजों को मारकर उनका सिर इसी जंगल में तरकुल के पेड़ के नीचे स्थित पिंडी पर देवी मां को अर्पण कर देते थे.

अंग्रेजों को नहीं लगती थी इसकी भनक

चौरी-चौरा डुमरी रियासत में जन्मे बाबू सिंह अंग्रेजों का सफाया कर उसे माता के चरणों में इतनी चालाकी से अर्पण करते थे कि काफी समय तक अंग्रेजों को इसकी भनक तक नहीं लगी.

एक के बाद एक सिपाहियों के गायब होने की वजह से अंग्रेजों को बंधू सिंह पर शक हुआ. जिसके बाद अंग्रेजों ने उनकी हर चीज को मिटाने की पूरी कोशिश की.

इस दौरान अंग्रेजों से लोहा लेते हुए बंधू सिंह को अपने पांच भाईयों की जान से हाथ धोना पड़ा.

6 बार फांसी से बचे बंधू सिंह

अंग्रेज सैनिको की हत्या के बाद गिरफ्तार किए गए बंधू सिंह को 6 बार फांसी पर चढ़ाने की कोशिश की गई लेकिन हर बार वो देवी मां के आशीर्वाद से बच निकले.

सातवी बार बंधू सिंह ने तरकुलहा देवी का ध्यान करते हुए उनसे इस दुनिया से जाने की मन्नत मांगी. तब जाकर अंग्रेज उन्हें फांसी पर लटकाने में कामयाब हो सके.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।