बाहर से आने वालों के नहीं बनेंगे पास
April 30th, 2020 | Post by :- | 286 Views

हिमाचल में अभी तक जो आ चुके हैं, पहले उन्हें किया जाएगा व्यवस्थित

धर्मशाला – हिमाचल में बाहर से आने वालों के पास बनाने पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। अब तक जो एंटर कर चुके हैं, पहले उन्हें ही व्यवस्थित किया जाएगा। उसके बाद ही अन्य लोगों को अनुमति दी जाएगी। ऐसे में फिलहाल जो जहां हैं, वहीं बने रहें। इसके अलावा यहां पहुंचकर भी नियमों का उल्लंघन करने वालों पर सीधे एफआईआर दर्ज कर कड़ी कार्रवाई का प्रावधान किया गया है। कांगड़ा जिला के लंबागांव में होम क्वारंटाइन की अवहेलना पर दो के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है तथा दोनों को ही क्वारंटाइन सेंटर आलमपुर भेजा गया है। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि बाहरी राज्यों या क्षेत्रों से आए हुए नागरिकों को निर्देश दिए गए हैं कि 28 दिन तक अपने घरों में रहें तथा सामाजिक दूरी की पूरी अनुपालना सुनिश्चित करें। इन निर्देशों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने का प्रावधान भी किया गया है। यदि कोई व्यक्ति जिला कांगड़ा के बाहर कहीं से भी आया है, तो वह 28 दिन तक घर के अंदर ही रहेगा (होम क्वारंटाइन) ऐसे व्यक्ति को घर के अंदर ही रखने एवं बाहर जाने से रोकने के लिए उसके साथ रह रहे परिवार के व्यस्क सदस्य भी कानूनी रूप से बाध्य होंगे। यदि ऐसा कोई व्यक्ति जो होम क्वारंटाइन में है और घर के बाहर दिखाई देता है, तो परिवार के अन्य सदस्यों के विरूद्ध भी एफआईआर की जा सकती है। उन्होंने कहा कि सभी नागरिकों को स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित करनी चाहिए। उपायुक्त ने नागरिकों से अपील करते हुए कहा कि घरों से बेवजह बाहर न निकलें तथा लॉकडाउन की पूरी अनुपालना सुनिश्चित करें।

कांगड़ा जिला में 15 हजार लोगों की निगरानी

उपायुक्त ने कहा कि कांगड़ा जिला में बाहरी राज्यों या अन्य क्षेत्रों से आए पंद्रह हजार के करीब नागरिकों की निगरानी की जा रही है। इस बाबत जिला प्रशासन के पास नागरिकों का पूरा डाटा है, जो कि संबंधित उपमंडल अधिकारियों एवं विकास खंड अधिकारियों को भी उपलब्ध करवाया जा रहा है। इन सभी नागरिकों को 28 दिन के लिए घर में ही रहने के निर्देश दिए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।