प्राकृतिक खेती कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ इंटरनेट माध्यम से जुड़ें पहाड़ों के हजारों किसान। #news4
December 16th, 2021 | Post by :- | 419 Views

आज प्रातः11 बजे से सायं 2 बजे तक हर पंचायत में बंजार खण्ड के किसानों ने सुनी व जानी शून्य बजट खेती।

तीर्थन घाटी के किसानों व बागवानों सहित महिलाओं में दिखा भारी उत्साह।

देसी गाय आधारित खेती से किसान होंगे मालामाल, बढ़ेगा पर्यटन।

तीर्थन घाटी गुशैनी बंजार (परस राम भारती):- हिमाचल प्रदेश में आज पहाड़ों के हजारों किसान इंटरनेट/दूरदर्शन के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ शून्य लागत प्राकृतिक खेती कार्यक्रम से जुड़े। हर जिला एवं खण्ड स्तर पर इसके लिए परियोजना निदेशक आत्मा द्वारा हर ग्राम पंचायत से 20 किसानों को इंटरनेट द्वारा इस कार्यकर्म में लाइव जोड़ा गया। इसी कड़ी में जिला कुल्लू के उपमण्डल बंजार में भी सभी पंचायतों के प्रगतिशील किसानों, पंचायत जनप्रतिनिधियों प्रधानों, उप-प्रधानों, पंचायत समिति सदस्यों, वॉर्ड पंचों और अन्य विभागीय कर्मचारियों ने भी इस कार्यक्रम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इसके अलावा अन्य लोगों ने इस कार्यक्रम को यू टयूबऔर दूरदर्शन के माध्यम से भी देखा है।

उपमण्डल बंजार में तीर्थन घाटी की हर ग्राम पंचायत में आज प्रातः11 बजे से लेकर दोपहर दो बजे तक स्थानीय किसानों एवं बागवानों के लिए इस कार्यक्रम को दिखाने के लिए विशेष व्यवस्था की गई थी। जिसमें किसानों बागवानों सहित घाटी की स्थानीय महिलाओ में खासा उत्साह देखने को मिला है।

इस कार्यक्रम के माध्यम से लोगों ने जाना कि कैसे देसी गाय के गोबर और गोमूत्र से बिना किसी खास लागत के प्राकृतिक खेती की जा सकती है।

वरिष्ठ पत्रकार, पर्यावरण प्रेमी एवं प्राकृतिक खेती प्रशिक्षक दौलत भारती ने कहा कि जहर मुक्त देसी गाय के गोबर और गोमूत्र पर आधारित प्राकृतिक खेती से किसानों और बागवानों को फायदा तो होगा ही इसके साथ ही यह खेती पर्यावरण संरक्षण की दिशा में एक अच्छा कदम है। इन्होंने कहा कि अगर समुची तीर्थन घाटी के किसान बागवान शून्य लागत प्राकृतिक खेती की इस तकनीक को अपनाते तो यहां के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा जिसका लाभ यहां के हर व्यक्ति को मिलेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।