कोरोना वायरस के खौफ के बीच गंभीर बीमारियों से जूझ रहे इस परिवार के तीन सदस्य, मदद की दरकार
April 19th, 2020 | Post by :- | 129 Views

विकास खंड नूरपुर की पंचायत कमनाला में एक परिवार पर दुखों का ऐसा पहाड़ टूट पड़ा है, जिसमें परिवार के तीन सदस्य गंभीर बीमारी से जूझते हुए जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। बुजुर्ग मां अधरंग से पीड़ित हैं, जो चल फिर सकने में पूरी तरह असमर्थ हैं। पूरे परिवार का सहारा बड़ा बेटा कैंसर जैसी भयानक बीमारी से जंग लड़ रहा है तो छोटे बेटे का भी अभी हाल ही में ऑपरेशन हुआ है। इस परिवार की सारी जमा पूंजी भी बीमारी की भेंट चढ़ चुकी है। अब उक्त परिवार अपने इलाज के लिए भी पूरी तरह असमर्थ हो चुका है।

कमनाला पंचायत के वार्ड एक की विधवा तुलसा देवी अधरंग (पैरालाइज) के चलते बिस्तर पर है। बड़ा बेटा 38 बर्षीय रविन्द्र सिंह कैंसर से जूझ रहा है तो उससे छोटे भाई 35 बर्षीय सुनील कुमार का अभी हाल ही में गंभीर बीमारी के कारण पठानकोट के निजी अस्पताल में ऑपरेशन हुआ है। उक्त परिवार का हिमकेयर कार्ड भी बना है लेकिन गम्भीर बीमारियों से ग्रसित इस परिवार को किसी अच्छे संस्थान में इलाज की दरकार है। घर में पड़ी बीमारी से पूरा परिवार आर्थिक तौर पर पूरी तरह असहाय हो चुका है।

पीड़ित परिवार अपनी सारी जमा पूंजी बीमारी पर खर्च कर चुका है। हालांकि कुछ लोगों ने इस पीड़ित परिवार को करीब एक लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की है। लेकिन परिवार के तीन सदस्यों की इस अवस्था पर सहायता राशि भी कम पड़ रही है। पीड़ित परिवार ने प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से गुहार लगाई है कि उनके इलाज के लिए समुचित सहायता प्रदान की जाए।

पूर्व विधायक अजय महाजन, पंचायत समिति नूरपुर के अध्यक्ष संदेश डढवाल, कमनाला के समाजसेवी शमशेर सिंह व अरुण ठाकुर आदि ने मिलकर उक्त परिवार की करीब एक लाख राशि की आर्थिक मदद की है। लेकिन संकट के दौर से गुजर रहे परिवार के लिए अच्छे संस्थान में इलाज की सख्त जरूरत है।

पूर्व विधायक अजय महाजन का कहना है लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे परिवार के तीन सदस्यों के कारण परिवार असहाय हो चुका है। अतः प्रदेश सरकार से आग्रह है कि इस परिवार की अविलंब सुध ली जाए और इनके समुचित इलाज का प्रावधान किया जाए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।