हिमाचल के चिड़ियाघरों में अब जल्द गुंजेंगी टाइगरों की दहाड़,दिल्ली से लाया जाएगा बाघों का जोड़ा
July 29th, 2019 | Post by :- | 221 Views

आज वर्ल्ड टाइगर डे है। विश्व में टाइगरों की संख्या लगातार कम हो रही है। इसकी संख्या को बढ़ाने के  लिए सरकारों की ओर से कई कदम उठाए जा रहे है। हिमाचल में टाइगर और शेर नहीं पाए जाते है। ऐसे में यहां के चिड़ियाघरों में टाइगरों को लाने के लिए प्रोसेस को शुरू किया गया है।

अब आने वाले समय में हिमाचल के पहाड़ों व चिड़ियाघरों में टाइगरों की गगनभेदी दहाड़ सुनाई देगी। इसके लिए प्रदेश में काम शुरू हो गया है।

जू एनीमल एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत जानवरों को प्रदेश में लाने के लिए प्रयास शुरू कर दिए गए है। गुजरात से शेर और दिल्ली से टाइगरों को लाने के लिए विभाग की ओर से जरूरी काम शुरू किए है। प्रदेश की रेणुका चिड़ियाघर में दिल्ली से बाघों का जोड़ा लाया जाएगा।

इसकी मंजूरी के लिए जू अथॉरिटी को लिखा गया है। प्रदेश में शेर और टाइगर नहीं पाए जाते है। कुछ साल पहले रेणुका लायन सफारी में दो बुढ़े शेरों की मौत हो गई थी। प्रदेश सरकार की ओर से बाघों को लाने के लिए जू अथॉरिटी से आग्रह किया गया है। ऐसे में टाइगरों की दहाड़ प्रदेश के जंगलों में गुंजेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।