डैनकुंड की पहाड़ियां पर जमीं बर्फ की मोटी चादर, ट्रैकिंग करने पहुंच रहे पर्यटक
January 23rd, 2023 | Post by :- | 37 Views

डलहौजी : हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी लगातार जारी है। बर्फ की सफेद चादर में लिपटा हिमाचल किसी स्वर्ग से कम नहीं लग रहा है। डलहौजी मे पिछले कई दिनों से बर्फबारी जारी है। पर्यटन नगरी डलहौजी व इसकी उपरी पहाड़ियों पर गत दिनों हुए हिमपात के बाद हिमाच्छादित हुए पर्यटन नगरी डलहौजी की पहाड़ियां ट्रैकरों को ही जहां अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं। विभिन्न राज्यों से आए पर्यटक भी इन बर्फ से पटी हुई पहाड़ियों पर जाकर मस्ती कर रहे हैं।

डैनकुंड में हुई ढाई फुट तक बर्फबारी

ज्ञात हो कि डलहौजी के उपरी क्षेत्र डैनकुंड में अबतक लगभग ढाई फुट तक बर्फबारी हो चुकी है। जिससे कि डैनकुंड में चारों ओर बर्फ की मोटी चादर बिछ जाने से इस क्षेत्र का ही नजारा काफी सुन्दर हो गया है। वहीं डैनकुंड की बर्फ से लकदक ऊँची पहाड़ी से दूर तक दिखाई देते निचले क्षेत्रों का नजर भी काफी विहंगम लगता है। हलकी धुंध के बीच बर्फ से लकदक डैनकुंड की पहाड़ियों पर पहुंचकर ऐसा लगता है मानो बादलों से घीरे आसमान के बीच में चहलकदमी कर रहे हों।

बस इसी आकर्षण में ट्रैकरों के साथ अन्य पर्यटक लक्कड़मंडी से पैदलो ही डैनकुंड पहुंचकर बर्फ में मस्ती करने सहित यहां के सुंदर नजारों को अपने कैमरों में कैद कर रहे हैं। ज्ञात हो कि डैनकुंड में पोह्लानी माता मंदिर परिसर व आसपास के क्षेत्र सहित मंदिर के रास्ते में भी बर्फ की मोटी चादर बिछी हुई है। डैनकुंड में जमी बर्फ की चादर अगले कई दिनों तक यूं ही रहेगी। ऐसे में आने वाले दिनों में भी काफी संख्या में पर्यटकों के यहां आने की उम्मीद है।

ट्रैकिंग करने पहुंच रहे पर्यटक

पर्यटकों का कहना है कि यूं तो हर मौसम में पहाड़ों पर ट्रैकिंग करते हैं। लेकिन, भारी बर्फबारी के बीच ट्रैकिंग करने का अलग ही अनुभव है। डैनकुंड में हर वर्ष कई फुट तक बर्फबारी हो जाती है। ऐसे में यहां तक पहुंचने के लिए पैदल ही आना पड़ता है। ट्रैकिंग करते हुए जब ट्रैकर पहाड़ी की चोटी पर पहुंचते हैं तो नजारा देखने लायक होता है।वर्तमान समय में यहां पर स्थानीय युवाओं के साथ-साथ आसपास के क्षेत्रों से भी ट्रैकर डैनकुंड की पहाड़ियों पर ट्रैकिंग करने के लिए पहुंच रहे हैं।

आगामी दिनों में फिर से मौसम अपने तेवर कड़े करेगा। ऐसे में फिर से पहाड़ों पर बर्फबारी का दौर शुरू हो जाएगा। ऐसे में आने वाले समय में यहां पर ट्रैकरों की संख्या में बढ़ौतरी हो सकती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।