रिज पर पर्यटकों ने सरेआम तोड़े नियम #news4
January 16th, 2022 | Post by :- | 127 Views

शिमला : कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए प्रशासन ने सप्ताह में एक दिन बाजार पूरी तरह बंद रखने का फैसला लिया है। रविवार को इसका व्यापक असर शिमला में देखने को मिला, लेकिन पर्यटक नियमों को दरकिनार कर मस्ती कर रहे हैं।

रिज व मालरोड पर नियमों का सरेआम उल्लंघन होता रहा। यहां पर पर्यटक बिना मास्क के ही घूमते रहे तो कुछ फोटो खिचवाने के लिए मास्क उतारते रहे। सुबह से दोपहर तक यही हाल रहा। इसकी शिकायत कुछ लोगों ने पुलिस में भी की। पुलिस की टीम भी रिज पर पहुंची, लेकिन पर्यटक दिखावे के लिए मास्क पहन रहे हैं। पुलिस जवानों के जाते ही फिर से मास्क उतार रहे हैं। पर्यटकों ने शारीरिक दूरी के नियम का भी पालन नहीं किया। कहीं पर्यटक मास्क उतार कर सेल्फी ले रहे थे तो कहीं वीडियो काल कर अपने स्वजन को शिमला का मौसम दिखा रहे थे। पुलिस के डर से लोगों के हाथ में तो मास्क मौजूद थे, लेकिन उन्हें पहनने से परहेज कर रहे थे।

जिला प्रशासन ने कोरोना से बचाव के लिए विभिन्न निर्देश जारी किए हैं, लेकिन पर्यटक इन नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। स्थानीय लोगों ने भी आरोप लगाया कि पुलिस उन पर तो सख्ती करती है, लेकिन जो लोग घूमने आए हैं वे सरेआम नियम तोड़ रहे हैं उन पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। ऐसे में लोगों की लापरवाही लोगों की सेहत पर भारी पड़ जाती है।

नियम सभी के लिए एक समान हैं। नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ प्रशासन कार्रवाई कर रहा है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लोग खुद नियमों का पालन करने के लिए आगे आएं।

आदित्य नेगी, उपायुक्त। बिना मास्क घूमने वालों के पुलिस चालान कर रही है। पुलिस पर्यटकों को गाइड भी कर रही है कि वे मास्क पहनें। नियमों का पालन करने के लिए लोगों को भी पहल करनी होगी।

– डा. मोनिका भुटूंगरू, एसपी।

कोरोना से बचाव में मास्क सबसे बड़ा हथियार

कोरोना संक्रमण से बचाव में मास्क सबसे बड़ा हथियार साबित हुआ है। बिना मास्क घर से निकलने वालों के लिए 500 रुपये चालान का प्रविधान है। मास्क पहनने से कोरोना संक्रमण का खतरा काफी कम हो जाता है। इसके बावजूद सैलानी लापरवाही बरत रहे हैं। प्रशासन इसको लेकर जगह-जगह बोर्ड लगाकर लोगों को जागरूक भी कर रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।