जंजैहली में शुरू हुई ट्रेवल मीट व फैम ट्रिप
July 5th, 2019 | Post by :- | 130 Views

मंडी, 05 जुलाई: हिमाचल सरकार प्रदेश के अनछुए पर्यटन स्थलों को पर्यटन नक्शे पर लाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। इस कड़ी में जंजैहली क्षेत्र में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए टूरिज्म फेस्टिवल के तहत कार्यक्रमों की एक श्रृंखला का आयोजन किया जा रहा है। इस क्रम में शुक्रवार को जंजैहली में दो दिवसीय ट्रेवल मीट व फैम ट्रिप की शुरूआत हुई। स्थानीय प्रशासन द्वारा पर्यटन विभाग व जंजैहली होटल व्यवसायियों के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में देश भर से ट्रेवल एजेण्ट्स भाग ले रहे हैं। जंजहैली के होटल गोल्डन वैली में शुरू हुआ यह कार्यक्रम 6 जुलाई तक चलेगा। इस श्रृंखला में 11 से 14 जुलाई तक ढीमकटारू में जंजैहली उत्सव का आयोजन किया जाएगा।

इस अवसर पर ट्रेवल एजेंसी के क्षेत्र में जानी मानी संस्था टिफ्टी दिल्ली से सम्बन्धित 15 विभिन्न ट्रेवल एजेंसियों के एजेंटों के अतिरिक्त भोपाल व शिमला से 30 से ज्यादा एजेंट भाग ले रहें हैं। इस मौके पर उन्हें पारम्पारिक तरीके से सम्मानित किया गया तथा हिमाचली व्यंजन परोसे गए।
कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए उपमण्डलाधिकारी थुनाग सुरेन्द्र मोहन ने कहा कि जंजैहली में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं और इनके दोहन के लिए इस मीट का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने इस अवसर पर जंजैहली व उसके आसपास के पर्यटन गंतव्यों शिकारी माता मन्दिर, बुलाह, बूढ़ा कदार, मगरूगला, शैटाधार, मुरारी मन्दिर, रायगढ़, पांडव शिला आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी।
उन्होंने कहा पर्यटन के विकास से इस क्षेत्र में सामाजिक व आर्थिक विकास के साथ सैंकड़ों युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। इस मौके पर प्रदेश सरकार द्वारा जंजैहली में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनओं की भी जानकारी दी।
इसके अतिरिक्त कान्फ्रैंस में आए एंजेटों ने पर्यटन विकास को लेकर अपने सुझाव दिए तथा स्थानीय होटल व्यवसायियों का मार्ग दर्शन किया। भोपाल से सम्बन्धित ट्रेवल एजेंट विदुषी कारा ने कहा कि इस क्षेत्र में पर्यटन के लिए आवश्यक बुनयिादी सुविधाएं उपलब्ध हैं और यहां साहसिक पर्यटन को विशेष रूप से विकसित किया जाना चाहिए। आने वाले समय में वह भी अपनी एजेंसी के माध्यम से सहासिक पर्यटकों को यहां भेजने का कार्य करेंगी।
टिफ्टी दिल्ली के अध्यक्ष शैलेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि यहां की सुन्दर वादियों ने उनका मन मोह लिया है और जिस आत्मीयता से प्रशासन व होटल उद्यमियों ने उनका स्वागत किया उससे हिमाचली संस्कृति के दर्शन होते हैं, और वह भी अपने सहयोगियों के माध्यम से यहां के पर्यटन को विकसित करने में पूरा सहयोग करेंगे।
शिमला से आए हिम पैराडाईज के एमडी लवनीश गुलेरिया ने कहा कि यहां की सांस्कृतिक धरोहर अतुलनीय है और यहां की कला संस्कृति व दस्तकारी को अवश्य ही देश विदेश के पटल पर लाना आवश्यक है और वो दिन दूर नहीं जब यह क्षेत्र मनाली और शिमला को पीछे छोड़ देगा।
इस अवसर पर डैस्टीनेशन जंजहैली के अध्यक्ष प्रकाश ठाकुर ने यहां पर जाटा के नाम से चलाई जा रही एसोसिएशन द्वारा पर्यटन के क्षेत्र में किए जा रहे कार्योें की विस्तृत जानकारी दी।
इस अवसर पर आए ट्रेवल एजेंटों को जंजहैली वैली के दर्शनीय स्थलों का भ्रमण भी करवाया जाएगा।
इस मौके पर होटल गोल्डन वैली के प्रबन्धक गुलजारी लाल, निदेशक सिविल सप्लाई कॉपोरेशन विश्व ठाकुर, निदेशक राज्य सहकारी बैंक रजनी ठाकुर, निदेशक हैंडलूम व हैंडीक्राफट बोर्ड पितांबर लाल, निदेशक विपणन बोर्ड जोधवीर ठाकुर, निदेशक एससी एसटी निगम गोपाल सिंह, वाईस प्रेसिडेंट डैस्टीनेशन जंजहैली बोध राज, सचिव मोहन लाल, प्रधान ग्राम पंचायत जंजहैली अहल्या देवी, मुख्य संयोजक हिमाचल प्रदेश टीचर यूनियन कमल राणा, बीडीसी सदस्य डोलमा, पूर्व पंचायत प्रधान ललित शर्मा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।