खनन विभाग के इंस्पेक्टर को अगवा करने वाले दो आरोपित उत्तराखंड के ढालीपुर से गिरफ्तार, हमलावरों की तलाश जारी #news4
May 13th, 2022 | Post by :- | 64 Views

नाहन : जिला सिरमौर के पांवटा साहिब की यमुना नदी से बुधवार रात खनन विभाग के इंस्पेक्टर को अगवा करने वाले दो आरोपितों को पुरुवाला पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस टीम पर हमला करने वाले अन्य आरोपितों की तलाश जारी है।

इस वारदात में इस्तेमाल की गई स्कार्पियो कार यूके 16-4502 को भी पुलिस ने कब्जे में लिया है। पुलिस ने दोनों आरोपितों के खिलाफ पुलिस थाना पुरुवाला में विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। अवैध खनन के मामले में पुलिस ने इस कार्रवाई को 24 घंटे के भीतर अंजाम दिया है। इस घटना के आरोपित मोमीन और जावेद को पुलिस ने उत्तराखंड के ढालीपुर से गिरफ्तार किया। दोनों आरोपित वीपीओ ढालीपुर तहसील विकासनगर जिला देहरादून उत्तराखंड के रहने वाले हैं, जिनसे पुलिस गहन पूछताछ कर रही है। हालांकि खनन कर्मचारियों व पुलिस कर्मियों से मारपीट करने वाले आरोपित अभी अंडरग्राउंड हैं। पुलिस आरोपितों की तलाश में जुटी है।

विदित रहे कि बुधवार रात पांवटा साहिब के रामपुरघाट में अवैध खनन को लेकर कार्रवाई करने गई पुलिस व खनन विभाग की टीम पर उत्तराखंड के खनन माफियाओं ने हमला कर दिया था, जिसमें तीन लोगों को चोटें आईं। इस बीच खनन विभाग के इंस्पेक्टर संजीव कुमार को माफिया एक स्कार्पियों में बिठाकर अगवा कर उत्तराखंड के हरबर्टपुर के लिए गए थे। करीब पांच घंटे के बाद उत्तराखंड सीमा से किसी तरह आरोपितों से चंगुल से छूटकर संजीव कुमार जान बचाते हुए पांवटा पहुंचे। वीरवार को इस पूरे इलाके को छावनी में तबदील कर दिया गया था। वारदात के तुरंत बाद ही पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित कर दी थी। इसके बाद पुलिस ने वीरवार देर रात को यमुना नदी से इंस्पेक्टर को अगवा करने वाले आरोपियों को उत्तराखंड से गिरफ्तार कर लिया है। इस वारदात के बाद पूरे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है।

क्या कहते हैं अधिकारी

पांवटा साहिब के डीएसपी वीर बहादुर सिंह ने बताया कि दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। स्कार्पियो को भी कब्जे में लिया है। आरोपितों से गहन पूछताछ की जा रही है। पुलिस आगामी कार्रवाई में जुटी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।