इमरजेंसी में एंबुलेंस सेवा न मिलने से ढाई साल के मासूम की मौत, धर्मकोट में इंतजार करता रहा परिवार
April 13th, 2020 | Post by :- | 93 Views

समय पर चिकित्सा सुविधा न मिलने के कारण धर्मकोट के दसालनी में रह रहे कामगार पप्पू ने अपना ढाई साल का बेटा खो दिया। पप्पू ने बताया कि रात भर बेटा पेट दर्द से बिलखता रहा। पेट दर्द की दवा जो पहले मैक्लोडगंज पीएचसी से लेकर आए थे वह भी बच्चे को दी, लेकिन उसका भी कोई फायदा नहीं हुआ। पुलिस के डर के कारण बेटे को बाहर नहीं ले जा सके। जब रात से सुबह होने लगी तो मकान मालिक को उठाया और मकान मालिक ने बच्चे के स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रयास किए।

उन्होंने बताया कि 108 आपातकालीन सेवाओं के लिए भी कॉल की गई, लेकिन 108 में फोन सुन रहे कर्मचारी की ओर से अभद्रता की गई। जैसे तैसे बच्चे को टांडा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में पहुंचाया गया, जहां आधे घंटे बाद उसकी मौत हो गई। कामगार परिवार की मदद कर रहे अधिवक्ता निर्मल कुमार ने बताया कि मेहनत मजबूरी करने वाला दरिणी निवासी पप्पू अपनी पत्नी व दो बच्चों के साथ दसालनी में किराये के मकान में रहता है। रात को 12 बजे के करीब उसके बेटे अखिल (ढाई साल) को पेट में तेज दर्द हुआ था।

एडवोकेट निर्मल कुमार निवाससी दसालनी धर्मकोट का कहना है 108 एंबुलेंस सेवा के लिए आने वाले कॉल को सुनने वाले कर्मचारियों को बेहतर व्यवहार रखना चाहिए। जब कोई परेशानी में होता है तब ही 108 में कॉल करता है।

प्रभारी 108 एंबुलेंस जिला कांगड़ा विकास दयोलिया का कहना है फोन सीधे कॉल सेंटर जाता है, वहां से हस्तांतरित होकर जानकारी आती है। इस बारे में फोन करके पता करेंगे। 24 घंटे आपातकालीन सेवाएं उपलब्ध हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।