दो नये विधायकों ने ली शपथ, सीएम ने दिए मंत्रिमंडल में बदलाव के संकेत
November 4th, 2019 | Post by :- | 174 Views

हिमाचल के धर्मशाला और पच्छाद विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव में जीत हासिल करने वाले भाजपा के दो नये विधायकों को सोमवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। शिमला में हिमाचल विधानसभा अध्यक्ष राजीव बिंदल ने धर्मशाला से नव निर्वाचित विधायक विशाल नेहरिया और पच्छाद विधायक रीना कश्यप को शपथ दिलाई। इस दौरान सीएम जयराम ठाकुर भी मौजूद रहे। शपथ समारोह में सरकार के अलावा भाजपा के कई नेता भी मौके पर मौजूद रहे। इन्होंने नये विधायकों को बधाई दी। जिन दो सीटों से ये विधायक चुनकर आए हैं, वहां पहले भी भाजपा का कब्जा था।

इन्वेस्टर मीट के बाद करेंगे मंत्रिमंडल में बदलाव : जयराम
ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के बाद जयराम सरकार के मंत्रिमंडल की तस्वीर बदलना तय है। वर्तमान में मंत्रिमंडल में दो रिक्त पदों के लिए नामों पर चर्चा चल रही है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोमवार को पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में स्पष्ट किया कि इन्वेस्टर मीट के बाद मंत्रिमंडल में बदलाव और नए चेहरों को लाने का काम होगा।

विधानसभा में पच्छाद से नवनिर्वाचित विधायक रीना कश्यप और धर्मशाला से चुने गए विशाल नैहरिया के शपथग्रहण कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा उपचुनाव के नतीजों के अलावा कई अन्य पहलुओं पर भी गौर कर उसी हिसाब से मंत्रिमंडल में चेहरों को मौका दिया जाएगा। यह भी स्पष्ट किया कि बदलाव से पहले केंद्रीय नेतृत्व से चर्चा की जाएगी।

निर्देश के अनुसार काम किया जाएगा। फिलहाल, सरकार की प्राथमिकता इन्वेस्टर मीट है, जिसे सफल बनाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। इसके सफल होने पर प्रदेश को कई फायदे होंगे। बताया कि 6 नवंबर को पूरा मंत्रिमंडल धर्मशाला पहुंचेगा। मुख्यमंत्री ने दोनों नव निर्वाचित विधायकों को उपचुनाव में जीत पर बधाई दी।

कहा कि उपचुनाव में कई बार कई सदस्यों को मात्र 6 महीनों का समय ही मिल पाता है, तब भी वह तन-मन से अपने क्षेत्र के विकास में जुट जाते हैं। दोनों विधायक युवा हैं। इनके पास 3 वर्षों का पर्याप्त समय है, जिसका सदुपयोग दोनों को अपने निर्वाचन क्षेत्र के तीव्र तथा समग्र विकास के लिए करना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।