बिना मास्क घूमने पर दो युवकों को पड़ा महंगा
May 2nd, 2020 | Post by :- | 265 Views

पुलिस ने बिना मास्क घूमने वालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस ने जिले में बिना मास्क घूमने पर पुलिस ने दो युवकों का 500-500 रुपये का चालान किया है।

शुक्रवार को पुलिस टीम क‌र्फ्यू ढील के दौरान चंबा शहर में गश्त कर रही थी। इस दौरान एक युवक बिना मास्क घूम रहा था। पुलिस उसे पकड़कर चौकी ले गई। यहां चालान करने के बाद पुलिस ने युवक को चेतावनी दी कि दोबारा बिना मास्क सड़क पर घूमता दिखाई दिया तो कड़ी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। प्रदेश सरकार ने मास्क लगाना अनिवार्य किया है लेकिन फिर भी लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। वे सुबह की सैर के साथ दिन में भी मास्क पहनने से परहेज कर रहे हैं। नगर परिषद व जिला प्रशासन ने दुकानों पर भी बिना मास्क आने वाले लोगों को एंट्री न देने के आदेश दिए हैं।

पुलिस अधीक्षक डॉ. मोनिका ने बताया कि दुकानों के बाहर पोस्टर लगाए गए हैं। इनमें नो मास्क नो एंट्री लिखा गया है। जो व्यक्ति बिना मास्क आएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

उधर, बिना मास्क बाजार व सार्वजनिक स्थानों पर पहुंच रहे लोगों को सबक सिखाने के लिए डलहौजी पुलिस थाना का स्टाफ भी सख्त हो गया है। शुक्रवार को मास्क न पहनना बनीखेत के एक युवक को मंहगा पड़ गया। पुलिस ने उसका पांच सौ रुपये का चालान किया। युवक ने जुर्माना भरकर जान छुड़ाई। उसने मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकलने की बात कही।

थाना डलहौजी के प्रभारी आशीष पठानिया शुक्रवार दोपहर टीम के साथ बनीखेत में गश्त कर रहे थे। इस दौरान उनकी नजर बाजार में बिना मास्क घूम रहे युवक पर पड़ी। थाना प्रभारी ने उससे मास्क न पहनने का कारण पूछा तो वह टाल मटोल करने लगा। थाना प्रभारी ने उसे बताया कि सरकार व प्रशासन ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए मास्क पहनना अनिवार्य किया है। इसके लिए पोस्टरों के माध्यम से भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है। थाना प्रभारी ने युवक का 500 रुपये का चालान किया, जिसे उसने मौके पर भर दिया। एसडीपीओ डलहौजी रोहिन डोगरा ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि बिना मास्क बाजार व सार्वजनिक स्थानों पर आने पर सख्त कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है। इसलिए लोग मास्क लगाकर ही बाजार व सार्वजनिक स्थानों पर आएं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।