एच.पी.यू. का ग्रेड बेहतर हुआ तो यू.जी.सी. से मिलने वाले फंड में होगी वृद्धि #news4
October 3rd, 2022 | Post by :- | 76 Views

शिमला : हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (एच.पी.यू.) का ग्रेड बेहतर होने पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यू.जी.सी.) से मिलने वाले फंड में वृद्धि होगी। विश्वविद्यालय का वर्तमान में ए ग्रेड है और प्रयास है कि नैक से ए+ या ए++ ग्रेड हासिल किया जा सके। इसके लिए बीते लंबे समय से लगातार तैयारियां की जा रही हैं। ग्रेड बेहतर हुआ तो निश्चित तौर पर यू.जी.सी. से मिलने वाले फंड में भी बढ़ौतरी होगी।

सूत्रों के अनुसार वर्तमान में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय को 10 करोड़ रुपए का फंड यू.जी.सी. से मिलता है और अगर आगामी नवम्बर माह में नैक के दौरे के बाद विश्वविद्यालय का ग्रेड और बेहतर होता है तो 140 करोड़ के आसपास यू.जी.सी. फंड मिलना शुरू हो जाएगा। इसमें रूसा के तहत और शोध कार्य के लिए फंडिंग होगी।

बताते हैं कि नैक की ग्रेडिंग में पूर्व की तुलना में बदलाव आया है। वर्ष 2016 में 70 अंक टीम के दौरे और 30 अंक सैल्फ स्टडी रिपोर्ट के प्राप्त हुए थे लेकिन इस बार 70 अंक तथ्यों, ऑनलाइन सैल्फ स्टडी रिपोर्ट के प्राप्त होंगे। इसके पश्चात 30 अंक नैक की टीम परिसर का निरीक्षण प्रक्रिया अमल में लाने के बाद देगी। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय यू.जी.सी. की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) से बेहतर ग्रेड हासिल करने के लिए तैयारियों में जुटा हुआ है। अगले माह नैक की टीम विश्वविद्यालय के दौरे पर आएगी और निरीक्षण प्रक्रिया अमल में लाएगी। उल्लेखनीय है कि नैक की पीअर टीम आगामी नवम्बर माह में 3 दिवसीय दौरे पर विश्वविद्यालय आएगी।

2 से 4 नवम्बर तक नैक की टीम विश्वविद्यालय में रहेगी और निरीक्षण प्रक्रिया अमल में लाएगी। औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने बीते सोमवार को 14 टीमों का गठन किया है। वर्तमान में एच.पी.यू. को नैक से ए ग्रेड प्राप्त है और एच.पी.यू. इस बार ए+ ग्रेड प्राप्त करने के लिए प्रयासरत है। वर्ष 2016 को जब विश्वविद्यालय को नैक से 7 प्वाइंट स्केल पर सी.जी.पी.ए. के 3.21 अंकों के आधार पर नैक से ‘ए’ ग्रेड मिला था। विश्वविद्यालय को नैक से ‘ए’ ग्रेड 4 नवम्बर, 2021 तक के लिए मिला था।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।