UGC ने जारी की गाइडलाइंस, उच्च शिक्षण संस्थानों में करनी होगी पर्याप्त महिला सुरक्षा कर्मियों की तैनाती #news4
October 26th, 2022 | Post by :- | 74 Views

शिमला : उच्च शिक्षण संस्थानों में कार्यरत महिला कर्मियों और छात्राओं की सुरक्षा को लेकर कड़े कदम उठाए जाएंगे। इसके लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने गाइडलाइंस जारी की हैं। गाइडलाइंस के अनुसार शिक्षण संस्थानों में महिला कर्मियों व छात्राओं के लिए उचित माहौल बनाने के लिए व्यवस्थाएं करनी होंगी। इसके लिए यूजीसी ने सभी उच्च शिक्षण संस्थानों में आंतरिक शिकायत समिति गठित करने को कहा है। यह समिति शिकायत निस्तारण व रोकथाम के लिए काम करेगी और छात्राओं और महिला कर्मचारियों से जुड़ी सभी शिकायतों का निवारण करेगी। इसके अलावा हैल्पलाइन नंबर जारी कर इसके बारे में महिलाओं व छात्राओं को सूचित करना जरूरी होगा। इसके अलावा शिक्षण संस्थानों के परिसरों में उचित संख्या में महिला सुरक्षा कर्मियों की तैनाती भी करनी होगी। उच्च शिक्षण संस्थानों में महिला कर्मियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गाइडलाइंस में कई बिंदुओं को शामिल किया गया है। इसके साथ ही गाइडलाइंस को लेकर यूजीसी ने 14 नवम्बर तक सुझाव मांगें हैं।

उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश प्रक्रिया के समय मिलेगी एक पुस्तिका 
गाइडलाइंस के अनुसार उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश प्रक्रिया के समय एक पुस्तिका दी जाएगी, जिसमें व्यवहार और आचरण को लेकर नियम और जानकारी लिखी होगी, साथ ही विद्यार्थियों की मनोवैज्ञानिक व भावनात्मक चिंताओं को ध्यान में रखते हुए परिसर में काऊंसलिंग सेवा भी उपलब्ध होगी। उच्च शिक्षण संस्थानों में महिलाओं के लिए स्वच्छता व साफ-सफाई सुविधाओं का ध्यान रखने, सुरक्षित परिवहन, काॅलेज आने-जाने वाले रास्तों पर स्ट्रीट लाइट्स की उचित व्यवस्था करने व फीडर बसों की सुविधा देनी होगी। इसके अलावा संस्थानों के कैंपस के मार्गों, लाइब्रेरी, गलियारा, खेल मैदान, पार्क, प्रयोगशालाओं व पार्किंग आदि मुख्य स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने होंगे।

यूजीसी को भेजनी होगी पीरियॉडिक रिपोर्ट 
उच्च शिक्षण संस्थानोंं को महिला कर्मियों व छात्राओं की सुरक्षा के लिए कैंपस में उठाए गए कदमों की पीरियॉडिक रिपोर्ट यूजीसी को भी भेजनी होगी। इसके अलावा शिक्षण संस्थानों की वार्षिक रिपोर्ट में यौन उत्पीड़न से जुड़ी शिकायतों का डाटा भी अंकित करना होगा। इसके अलावा कितनी शिकायतों का निपटारा किया गया और कितनी शिकायतें लंबित हैं, इसकी भी जानकारी वाॢषक रिपोर्ट में देनी होगी। इस प्रक्रिया के दौरान शिकायतकर्ता की पहचान छुपाकर ही रखनी होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।