नरपतु के जीवन में बहार बनकर आई उज्ज्वला योजना
March 5th, 2020 | Post by :- | 137 Views

पति की असामयिक मृत्यु के बाद नरपतु देवी को अपने तीन छोटे-छोटे बच्चों का भरण-पोषण करना आसान नहीं था। उसकी पूरी दिनचर्या गाय के लिए घास तथा सुबह-शाम चूल्हा जलाने के लिए बालन का प्रबंध करने में निकल जाती थी। बच्चों को स्कूल से घर पहुंचकर मां के हाथों कुछ न कुछ अन्न ग्रहण करने की जो लालसा रहती है, वह कभी पूरी नहीं हो पाई, क्योंकि मां का पूरा दिन सुदूर जंगल से लकड़ी एकत्र करने में गुजर जाता।

ग्राम पंचायत प्रधान भुवनेश्वर ने नरपतु को बी.पी.एल. में शामिल करवाया। अब नरपतु के परिवार को उचित मूल्य की दूकान से काफी सस्ता और पर्याप्त राशन मिलना शुरू हो गया। ढलती उम्र में नरपतु की सेहत दिन भर जंगल से लकड़ियां एकत्र करने की इजाजत नहीं दे रही थी। उसने एक बार फिर अपने प्रधान से मुफ्त गैस कनेक्शन दिलवाने के लिए आग्रह किया। प्रधान ने तुरंत से नरपतु के दस्तावेज पूरे करवाए और जिला नियंत्रक खाद्य एवं आपूर्ति के कार्यालय में गैस कनेक्शन के लिए जमा करवा दिए। विभाग ने नरपतु देवी को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत गैस कनेक्शन स्वीकृत किया।
नरपतु देवी कहती है कि गैस कनैक्शन की सुविधा होने से मानो उसके जीवन में बहार लौट आई हो। अब वह बालन के लिए जंगलों में नहीं भटकती। कंपकपाती सर्दी हो या चिलचिलाती धूप, नरपतु को बालन के लिए हर रोज जंगल जाना ही पड़ता था, जिससे अब पूरी तरह से निजात मिली है। यही नहीं, अब उसके बच्चे स्वयं स्कूल से आकर झट से गैस जलाते हैं और कुछ न कुछ खाने को बना लेते हैं। मेहमानों के आने से भी अब नरपतु असहज महसूस नहीं करती। नरपतु देवी उचित मूल्य की दुकान से सस्ते राशन तथा मुफ्त गैस कनैक्शन के लिए सरकार का धन्यवाद करते नहीं थकती।
उज्ज्वला तथा गृहिणी सुविधा योजनाओं के लाभार्थियों को मिलेगा मुफ्त रिफिल
नियंत्रक जिला खाद्य, नागरिक एवं आपूर्ति पुरषोतम सिंह ने बताया कि जिन लाभार्थियों को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना तथा हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना के तहत निःशुल्क गैस कनैक्शन प्रदान किए गए हैं, सरकार उन्हें अब एक-एक रिफिल मुफ्त में प्रदान कर रही है। इसके लिए लाभार्थी को अपनी गैस एजेन्सी अथवा खाद्य, नागरिक आपूर्ति विभाग में गैस कनैक्शन की पासबुक दिखानी होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।